April 18, 2024

इंदौर। हर्बल मार्ट कंपनी, मोक्ष आयुर्वेदा, एएम इंटरप्राइजेस व डीएनएस इंटरप्राइजेस की डीलरशिप दिलाने के नाम पर लोगों के साथ ठगी करने वाले काल सेंटर पर क्राइम ब्रांच ने कार्रवाई की है। बाणगंगा क्षेत्र के एक घर के बाहर ताला लगाकर काल सेंटर का संचालन किया जा रहा था। गैंग 100 से अधिक लोगों के साथ लाखों की धोखाधड़ी कर चुका है। आरोपित इंटरनेट मीडिया साइट्स के जरिए लोगों के नंबर जुटाते थे।
पुलिस ने मामले में फर्जी काल सेंटर कंपनी के संचालक असित पाइक पिता सुदर्शन वर्तमान निवास केशव नगर बंगाली चौराहा मूल निवासी जिला बैतूल, श्रीयशी शर्मा निवासी कालिंदी गोल्ड सार्थक मूल निवासी जिला हरदा, विजय पटनारे निवासी बाणगंगा मूलत: वर्धा महाराष्ट्र, आकाश विश्वकर्मा निवासी भंवरकुआं मूल निवासी देवास, नितेश गुर्जर निवासी बाणगंगा मूल निवासी जिला शाजापुर, प्रदीप सिंह ठाकुर निवासी भंवरकुआं मूल निवासी जिला सीहोर को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के कब्जे से पुलिस ने 14 मोबाइल, 32 सिमकार्ड, एक लैपटाप, छह पासबुक, चार चेकबुक, 12 एटीएम कार्ड, नकदी रुपये व ग्राहकों का डेटा सहित अन्य दस्तावेज बरामद किए गए। आरोपितों के विरुद्ध थाना बाणगंगा में धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया है।
क्राइम ब्रांच को तमिलनाडु के आवेदक ने शिकायत की थी। जांच में पता चला कि आवेदक को हर्बल मार्ट कंपनी की एरिया डीलरशिप देने के नाम से आरोपितों ने फोन किया था। हर्बल प्रोडक्ट्स और कमीशन आदि का लालच देकर आरोपितों ने आवेदक से 30 हजार रुपये आनलाइन ले लिए लेकिन न तो प्रोडक्ट दिए और न ही कस्टमर लिस्ट भेजी।

महिला ने साथियों के साथ मिलकर की ठगी

क्राइम ब्रांच ने जांच में पाया कि हर्बल मार्ट कंपनी की महिला संचालक श्रीयशी ने क्लर्क कालोनी परदेशीपुरा क्षेत्र में लोगों के साथ ठगी की और वहां से कंपनी बंद कर दी। इसके बाद वह आरोपित असित पाइक के साथ बाणगंगा क्षेत्र के कालिंदी गोल्ड सार्थक के पास एक घर में बाहर से ताला लगाकर मोक्ष इंटरप्राइजेस के नाम से फर्जी काल सेंटर संचालित कर रही थी। आरोपित ग्राहकों से फर्जी सिमकार्ड का उपयोग कर संपर्क करते थे।