April 15, 2024

उज्जैन। मुंबई से आए श्रद्धालुओं से महाकाल की भस्म आरती में शामिल होने के लिए अनुमति कराने के नाम पर ठगी होने का मामला सामने आया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मुंबई से आए श्रद्धालुओं में शामिल विनोद ने मंदिर समिति से जुड़े अधिकारियों को बताया कि मंदिर के बाहर उन्हें एक व्यक्ति मिला था जिसने भस्म आरती के अनुमति कराने के नाम पर उनसे 3100 रुपए ले लिए। वे तीन लोग थे जब सुबह भस्म आरती करने पहुंचे तो गेट पर चेकिंग के दौरान उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। कर्मचारियों ने कहा कि उनके पास भस्मारती की अनुमति है ही नहीं। बाद में पता चला कि संबंधित व्यक्ति ने जो टिकट दी थी वह भस्म आरती की नहीं बल्कि दर्शन की टिकट थी। पूछताछ के बाद पूरी जानकारी सामने आई और श्रद्धालुओं ने बताया कि संबंधित व्यक्ति ने मंदिर का पुरोहित, पंडित होने का परिचय दिया था। इसलिए उन्होंने उस पर विश्वास कर लिया और रुपए दे दिए। जब उक्त व्यक्ति को फोन किया तो उसने कहा कि वीआईपी ज्यादा होने की वजह से उनकी परमिशन नहीं हो पाई है वह दर्शन कर लौट जाएं और उसने अपना फोन बंद कर लिया। बाद में श्रद्धालुओं ने मंदिर के अधिकृत पंडे, पुजारियों को भी घटना से अवगत कराया, पुजारियों ने भी संबंधित व्यक्ति को फोन लगाया लेकिन उसका फोन लगा नहीं लगा। मंदिर समिति मामले की जांच कर रही है।