April 18, 2024
छुम-छुम बाबा की दरगाह के पास दो गुटों में  चले हथियार
– दौड़ा-दौड़ा कर किया हमला,  6-7 घायल एक की हालत गंभीर
उज्जैन। पति-पत्नी के विवाद में होली की शाम पारदियों के दो गुटों का विवाद खून की होली से रंगा नजर आया। दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर डंडे-तलवार और पत्थरों से हमला किया। युवक को 1 किलोमीटर तक दौड़ा-दौड़ा कर लहूलुहान कर दिया गया। विवाद में 6-7 लोग घायल हुए है।
पवासा के वर्मा जी का कुआं पर रहने वाले चंदूल पिता प्यारेलाल पारदी 45 वर्ष मैं अपनी बेटी रोहिणी की शादी छुम-छुम बाबा की दरगाह के पास रहने वाले राजा बाबू से की है। शाम को राजा बाबू और उसकी पत्नी के बीच विवाद हो गया। पत्नी ने मामले की जानकारी अपने पिता चंदूल को दे दी। पिता परिवार और साथियों के साथ बाइक पर सवार होकर 20 से 25 लोगों के साथ छुम छुम बाबा की दरगाह पहुंच गया। जहां राजा बाबू के परिवार से विवाद होने पर दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर तलवार लाठी और पत्थरों से हमला कर दिया। महिलाएं भी विवाद में कूद पड़ी। रंगो की शाम खूनी होली से रंगी नजर आने लगी। राजा बाबू की पत्नी का पिता चंदूल हमला होते देख मौके से भागा लेकिन राजा के भाई भूरिया और उसके साथियों ने करीब डेढ़ किलोमीटर तक उसका पीछा किया और गदा पुलिया के समीप घेरकर तलवार से वार कर दिए।
बेबस नजर आए पुलिसकर्मी
गदा पुलिया से अंबर कॉलोनी की ओर जाने वाले रास्ते पर चंदूल को मारा जा रहा था। तभी एक पुलिसकर्मी वहां से गुजरा जिसने हमलावर को रोकने की कोशिश की इस बीच दो पुलिसकर्मी और पहुंच गए लेकिन तीनों हमलावरों के सामने बेबस नजर आ रहे थे। हमलावर चंदूल को लहूलुहान करने के बाद पैदल ही भाग निकला। घायल को मौके पर छोड़ तीनों पुलिसकर्मी वहां से रवाना हो गए।
जाया पारदी की हालत गंभीर
वर्मा जी का कुआं पवासा के आए जाया पिता नाथू पारदी 35 वर्ष को राजा बाबू और उसके भाई भूरिया पारदी के गुट घेर लिया था और बुरी तरह से पीटा। हमले में गंभीर रूप से घायल जाया को ऑटो में डालकर कुछ लोग अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां उसकी हालत गंभीर देख डाक्टरों ने रेफर कर दिया।
दोनों पक्षों पर केस दर्ज
नीलगंगा थाना पुलिस ने बताया कि पारदी समाज के दो गुटों में हुए विवाद के बाद चंदूल पारदी की शिकायत पर उसके दामाद राजा, बबलू, कार्तिक, देवराज और राजेंद्र के खिलाफ धारा 307 का मामला दर्ज किया है। वही राजा के भाई भूरिया पिता ईश्वर पारदी की शिकायत पर चंदूल, जाया, मंगल, गौतम, सिद्धांत, आशु और आकाश के खिलाफ धारा 307 में प्रकरण दर्ज किया गया है। दोनों पक्षों के आरोपी घायल हैं जिन्हें अस्पताल से छुट्टी होने के बाद गिरफ्तार किया जाए।