कैलाश विजयवर्गीय बोले– इंदौर नगर निगम घोटाले में किसी को नहीं बख्शेंगे

 

जनता के खून पसीने की गाढ़ी कमाई खा जाते हैं भ्रष्ट अधिकारी

भोपाल। इंदौर नगर निगम में बिना काम हुए बिल भुगतान के करीब 125 करोड़ रुपये के घोटाले ने मध्य प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। एक के बाद एक नगर निगम में अलग-अलग घोटाले खुल रहे हैं। भोपाल में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने स्पष्ट कर दिया है कि इंदौर नगर निगम घोटाले में किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।
जांच अधिकारियों के अनुसार घोटाला करने वालों ने बड़ी सफाई से काम किया, फाइलों में उनकी उपस्थिति नहीं दिख रही है, लेकिन उनके बिना निर्देश से काम होते गए, ऐसा संभव नहीं है। उन पर कार्रवाई तो होगी और बचेगा कोई नहीं।

मुख्यमंत्री ने मामले को गंभीरता से लिया

उन्होंने कहा कि जनता अपने खून-पसीने की कमाई नगर निगम में संपत्ति कर सहित अन्य कर के रूप में जमा करती है लेकिन पूरा पैसा अधिकारी खा जाए, ऐसे में जनता को जवाब देना हमारे लिए मुश्किल हो रहा है।
विजयवर्गीय ने कहा कि हम इन सभी को दंडित करेंगे। मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने इस पूरे मामले को गंभीरता से लिया है, जांच के लिए उच्चाधिकारियों की टीम भी बनाई गई है। मुख्यमंत्री ने स्वयं कहा है कि हम किसी को नहीं छोड़ेंगे।

पाई – पाई वसूली जाएगी

मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इस पूरे मामले में पावर डेलिगेशन कर दिया गया है और जिसको पावर डेलिगेशन किया उसने इसका दुरुपयोग किया। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार मामले को लेकर सख्त है, जनता की गाढ़ी कमाई की पाई-पाई वसूली जाएगी। गौरतलब है कि इंदौर नगर निगम में फर्जी बिलों के जरिये करोड़ों रुपये के भुगतान का मामला सामने आया है।

You may have missed