April 18, 2024

देवास। स्वराज्य मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है, और इसे मैं लेकर रहूंगा। अंग्रेजी शासकों को इतनी दृढ़तापूर्वक कहने वाले लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की पुण्यतिथि मनाई गई। गीता भवन में विगत तीन दिनों से भागवत सप्ताह और साथ ही गुरु चरित्र पारायण भी चल रहा है। इसी कार्यक्रम में महाराष्ट्र समाज और दत्त भक्त परिवार द्वारा कथा के पश्चात तिलक को पुष्पांजलि अर्पित की गई। कीर्तनकार पू .बुरसे महाराज (पुणे) ने तिलक जी के कई प्रसंग सुनाए।