50 हजार विद्युत बल्बों से जगमगाएंगे गोपाल मंदिर, बांके बिहारी में फूलों से होगी सजावट

जन्माष्टमी की तैयारियां, तोड़ेंगे 51 हजार की इनामी राशि वाली 35 मटकी

इंदौर। शहरभर के कृष्ण मंदिरों पर कृष्ण जन्माष्टमी की तैयारियां शुरू हो गई है। इस अवसर पर शहर के प्राचीन गोपाल और बांके बिहारी मंदिर को फूलों और विद्युत बल्पों से रोशन किया जाएगा। इसके साथ ही भगवान को नवीन पोषाकें पहनाकर भोग भी लगेगा। इस्कान के राधा गोविंद मंदिर में 30 हजार वर्गफीट का पांडाल बनाया जा रहा है। इसमें 40 बाय 60 का मंच होगा। यशोदा माता मंदिर में अभिषेक, पूजन और शृंगार होगा।
भगवान योगेश्वर के आगमन की घड़ी नजदीक आते ही कृष्ण मंदिर में साज-सज्जा शुरू हो गई है। इस बार कृष्ण जन्माष्टमी दो दिन मनाई जाएगी। इस दौरान हाथी, घोड़ा, पालकी जय कन्हैयालाल की जयघोष हर ओर गूंजेंगे। शहर के स्मार्त मत के प्राचीन बांके-बिहारी और गोपाल मंदिर में 18 अगस्त को और वैष्णवमतानुसार यशोदा और इस्कान मंदिर में 19 अगस्त को जन्म आरती होगी।
ज्योर्तिविद् आचार्य शिवप्रसाद तिवारी के अनुसार के अनुसार अष्टमी 18 अगस्त को रात 9.20 से 19 अगस्त 10.59 बजे तक रहेगी। रोहिणी नक्षत्र 19 अगस्त को एक बजकर 53 मिनिट से अगले दिन तड़के 4.40 मिनट तक रहेगी।कृष्ण जन्माष्टमी अक्सर दो अलग-अलग दिन मनाई जाती है। पहले दिन स्मार्त सम्प्रदाय और दूसरे दिन वाली वैष्णव सम्प्रदाय के लिए होती है।
फूलों से होगी सज्जा, लगेगा भोग
राजवाड़ा स्थित बांके बिहारी मंदिर की पुजारी तपस्वी विमलाबाई के अनुसार 18 अगस्त को मंदिर की परंपरानुसार जन्माष्टमी मनाई जाएगी। इस मौके पर मंदिर पर आकर्षक साज-सज्जा होगी। भगवान को नवीन वस्त्र पहनाए जाएंगे। इसके बाद रात 12 बजे जन्म आरती होगी। गोपाल मंदिर राजवाड़ा के बालमुकुंद पारशर ने बताया कि स्मार्त मत अनुसार 18 को अगस्त को मध्यरात्रि में भगवान की जन्म आरती होगी। इसमें हजारों कृष्ण भक्त भाग लेंगे।मंदिर को 50 हजार बल्पों से सजाया जाएगा।

You may have missed