मालवा – निमाड़ से लेकर पूरे प्रदेश में सक्रिय: अवैध शराब का सिंडीकेट

पुलिस को चलाना पड़ रहा जागरूकता अभियान: दुकान के अलावा बाहर से न खरीदें शराब

ब्रह्मास्त्र उज्जैन। अवैध शराब के धंधे में अपराधों की जैसे बाढ़ आ गई है। पुलिस जब भी कोई अभियान चलाती है , तब कहीं मालूम पड़ता है कि अपराध आखिर किस स्तर तक बढ़ गए हैं। इंदौर में हुए शराब कांड के बाद पुलिस और आबकारी विभाग का अमला एकदम एक्शन मोड में आ गया है। अब मालवा के लगभग हर शहर में कहीं न कहीं अवैध शराब या अमानक विदेशी शराब पकड़ा रही है। ऐसा लगता है कि अवैध शराब को लेकर एक ऐसा सिंडिकेट डवलप हो गया है, जो मालवा, निमाड़ ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश में सक्रिय है। यह शराब सिंडिकेट रुपयों के लालच में लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। उज्जैन, इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, रीवा, भिंड, खरगोन जैसे शहरों में ऐसे कितने ही मामले हैं, जहां पर जहरीली या अवैध शराब के मामले सामने आए हैं। अवैध शराब बरसों से बिकती रही है, लेकिन वर्तमान स्थिति में यह कुछ ज्यादा ही जानलेवा साबित हो रही है। हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि अवैध शराब न पीए इसके लिए जागरूकता अभियान भी सोशल मीडिया के जरिए चलाए जाने पड़ रहे हैं।
सोशल मीडिया पर ऐसी ही एक अपील चल रही है, जिसमें कहा गया है कि इंदौर में भारी मात्रा में नकली रॉयल स्टेज शराब आई है। पीने से 4 मौत और 3 गम्भीर हैं । पुलिस की ओर से अपील की गई है कि शराब दुकान के अलावा बाहर से सस्ती और अवैध शराब ना खरीदें। यदि ऐसी कोई शराब मिले या आपने ख़रीदी है, तो उसकी सूचना पुलिस को दे।

जहरीली शराब: इंदौर-उज्जैन पुलिस का शुरू होगा संयुक्त अभियान

जहरीली शराब से पिछले वर्ष अक्टूबर माह में 14 लोगों की मौत का मामला सामने आने के बाद अब मंदसौर और इंदौर जिले में भी जहरीली शराब से मौतें हुई हैं। जिसके चलते अब इंदौर-उज्जैन संभाग की पुलिस अवैध और जहरीली शराब कारोबारियों के खिलाफ संयुक्त अभियान की शुरुआत करने वाली है।
जहरीली शराब से धार्मिक नगरी में 14 लोगों की मौत के बाद खाराकुआ थाने का पूरा स्टॉफ बदल दिया गया था, वहीं एसपी को भी जिले से रवानगी दे दी गई थी। मामले की जांच के लिए भोपाल से एसआईटी की टीम पहुंची थी। जिसके बाद से शहर में लगातार शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इस बीच मंदसौर और इंदौर में भी जहरीली शराब से मौत होने के मामले भी सामने आए जो पुलिस महकमे के लिए चिंता का विषय बन गया। गुरुवार को उज्जैन संभाग के आईजी डॉ. योगेश देशमुख और इंदौर आईजी हरिनारायण चारी की उपस्थिति में एक बैठक आयोजित की गई जिसमें पूरे संभाग के एसपी और अधिकारियों को शामिल किया गया। बैठक में अवैध और जहरीली शराब का कारोबार करने वालों के खिलाफ लिकर सेल बनाना तय किया गया है। जिसके तहत अवैध शराब बनाने और बेचने वालों पर पुलिस शिकंजा कसते हुए कार्यवाही करेगी। बैठक में अवैध शराब कारोबारियों का रिकार्ड भी रखने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं शराब कारोबार की कड़ियां भी जोडऩे की बात कही गई है।
गौरतलब है कि जिले में लॉकडाउन और अनलॉक में अवैध शराब बड़ी मात्रा में पकड़ी गई थी, जो दूसरे राज्यों से आना सामने आई थी। अब पुलिस लिकर सेल के माध्यम से उस स्थान तक पहुंचेगी, जहां से अवैध शराब का धंधा शुरू हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *