शिवराज ने दिया मप्र को धन्यवाद: वेल्डन इंदौर

2,22,813 टीकों ने रच दिया इतिहास
स्वच्छता के बाद 1 दिन में सर्वाधिक टीकाकरण में भी नंबर वन
इन्दौर। स्वच्छता के बाद इंदौर ने कल देश में फिर एक नया इतिहास रच दिया। भारत के भाल पर इंदौर का टीका लग गया। एक दिन में सर्वाधिक टीकाकरण करने वाला इंदौर देश का पहला जिला बना है। इंदौर जिले में आज टीकाकरण महा-अभियान के तहत एक दिन में दो लाख 22 हजार 813 लोगों का टीकाकरण किया गया।
यह जानकारी इंदौर जिले के प्रभारी तथा जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने रेसीडेंसी में पत्रकारों से चर्चा के दौरान दी। इस अवसर पर सांसद श्री शंकर लालवानी, श्री गौरव रणदिवे, कलेक्टर श्री मनीष सिंह, नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल भी मौजूद थी। इस महत्वपूर्ण उपलब्धि को अर्जित करने पर श्री सिलावट ने सभी धर्मगुरुओं, सामाजिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, व्यापारिक तथा उद्योगिक संगठनों, प्रबुद्धजनों, मीडिया से जुड़े प्रतिनिधियों, एडवोकेट, डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, शासकीय विभागों के अधिकारी और कर्मचारियों, नगर निगम तथा जिला पंचायत के अमले आदि का आभार व्यक्त किया। उन्होंने विशेषकर इंदौर की जागरूक जनता के प्रति आभार व्यक्त करते हुये कहा कि इन सबके सक्रिय सहयोग से ही यह गौरवपूर्ण उपलब्धि हासिल हुई है। कोरोना को हराने के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प को पूरा करने के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व एवं निर्देशन में यह उपलब्धि हासिल की गई है, जो कोरोना को हराने में कारगर होगी। उन्होंने कहा कि अब हमारा अगला लक्ष्य इंदौर जिले को शत-प्रतिशत टीकाकृत करने का है।
इस अवसर पर सांसद श्री शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर जो तय करता है, उसे वह सब मिलकर पूरा करते है। चाहे कितना भी चुनौतिपूर्ण कार्य हो, या कठिन लक्ष्य सबको सबके सहयोग से पूरा किया जाता है। यह इंदौर की विशेषता है। उन्होंने कहा कि इंदौर में टीकाकरण के लिये अभूतपूर्व उत्साह था। चाहे ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी सबमें एक जैसा उत्साह देखा गया। श्री लालवानी ने इस उपलब्धि के लिये सभी का आभार व्यक्त किया और कहा कि शासन-प्रशासन की कुशल रणनीति और सुक्ष्म कार्ययोजना से यह लक्ष्य हासिल हुआ है।
नायक बने कलेक्टर मनीष सिंह
बताया – कैसे चलाया जीत का ब्रह्मास्त्र
कलेक्टर मनीष सिंह ने इस अभियान को सफल बनाने के लिये तैयार की गई रणनीति की जानकारी दी। उन्होंने जीत का ब्रह्मास्त्र कैसे चलाया, इस बारे में बताया कि सूक्ष्म कार्ययोजना बनाकर उसका मैदानी स्तर पर प्रभावी क्रियान्वयन किया गया। न्यूनतम समय में अधिकतम टीकाकरण हो, इसके लिये प्रत्येक टीकाकरण केन्द्र पर दो-दो आॅपरेटर तैनात किये गये। टीका लगाने वाले स्टॉफ को विशेष प्रशिक्षण दिया गया। समाज के हर वर्ग की बैठकर लेकर उनसे संवाद किया और कार्यक्रम में सहयोग देने और उसे सफल बनाने का आग्रह किया गया। धर्मगुरूओं के संदेश का भी विशेष प्रभाव देखा गया। जिले में टीकाकरण अभियान की विभिन्न व्यवस्थाएं लोकतंत्र के महोत्सव निर्वाचन की तर्ज पर की गई। टीकाकरण की सामग्री वितरण के लिये फोकल पाइंट बनाये गये। जिले में एक हजार से अधिक टीकाकरण केन्द्र बनाये गये। व्यवस्थाओं की निगरानी के लिये और टीकाकरण केन्द्रों पर आने वाली समस्याओं के निराकरण के लिये एआईसीटीएसएल आॅफिसर में सर्वसुविधायुक्त कंट्रोल रूम स्थापित किया गया।
उज्जैन प्रदेश में तीसरे स्थान पर
सरकार ने लक्ष्य दिया 60,000…उज्जैन ने लक्ष्य पार कर लगाए एक लाख टीके
ब्रह्मास्त्र उज्जैन। टीकाकरण के महा अभियान में उज्जैन जिले ने रिकॉर्ड टीकाकरण कर प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। उज्जैन जिले ने अपने लिए 75000 टीकाकरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया था (यद्यपि राज्य शाशन द्वारा 60 हजार का लक्ष्य दिया गया था ) इसके विरुद्ध एक लाख से अधिक टीके लगाकर जिले ने अभूतपूर्व कार्य करके दिखाया है । कलेक्टर आशीष सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया कि उज्जैन जिले में टीका लगवाने के लिए अभूतपूर्व उत्साह का परिणाम है कि लक्ष्य के विरुद्ध बड़ी सफलता प्राप्त हुई है । कलेक्टर ने टीकाकरण में भागीदारी करने वाली जनता , जनप्रतिनिधि , राजस्व , चिकित्सा , नगरीय निकाय , पुलिस , पंचायत , महिला बाल विकास विभाग ,सरपंच एवं समस्त आमले को बधाई दी है । उन्होंने व्यापक प्रचार प्रसार के लिए मीडिया का भी आभार व्यक्त किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *