April 15, 2024

25 हज़ार एकड़ जमीन का होगा इस्तेमाल, प्रस्ताव बनाकर भेजा

ब्रह्मास्त्र इंदौर। प्रदेश में देवास और सोनकच्छ के बीच सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनाया जाना है। यह एयरपोर्ट इंदौर के पास देवास और सोनकच्छ के बीच बनेगा। यात्रियों के साथ कार्गों और लॉजिस्टिक हब को बढ़ावा देने के लिए एयरपोर्ट बनाया जा रहा है। इसके लिए शासन को प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है।
मध्यप्रदेश के उद्योग विभाग ने इसके लिए करीब 25 हजार एकड़ जमीन तलाश ली है। मप्र इंडस्ट्री डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने जमीन के संबंध में राज्य सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है। इस जमीन से भोपाल-इंदौर रोड, भोपाल-जयपुर रोड, शाजापुर-देवास रोड और नरसिंहगढ़ को आपस में जोड़ा जाएगा। उद्योग विभाग ने इस जमीन की तलाश इसलिए की है, क्योंकि उसका मानना है कि राज्य के 40 फीसदी उद्योग इंदौर, देवास, पीथमपुर में है और डीएमआईसी के पास भी है। सरकार अब इसी इलाके पर फोकस करेगी। इन इलाकों में होने वाला विकास अब इसी जमीन के आसपास होगा। यहीं लॉजिस्टिक हब बनेगा या कोई उद्योग लगेंगे।
एयरपोर्ट बनाने के लिए जिन तथ्यों पर प्रशासन काम करेगा उनमें मौसम की अहम भूमिका होगी। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ये देखेगी कि इंदौर, देवास, सोनकच्छ में सालभर मौसम कैसा रहता है। यहां आंधी-तूफान कब आते हैं, बारिश कब होती है। कुल मिलाकर ये देखा जाएगा कि विमानों को किस तरह के मौसम से दो-चार होना पड़ेगा।