April 18, 2024

सरकारों की इतनी औकात नहीं होती कि वह सच सुन सकें

रायसेन। भोजपुर महोत्सव के तीसरे दिन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन की शुरुआत हुई, जिसमें डॉ. कुमार विश्वास नई दिल्ली, शिखा दीप्ति नोएडा, शंभू शिखर नोएडा, मदन मोहन समर गोपाल और संदीप शर्मा धार ने कविताओं की प्रस्तुति दी। इसी बीच कुमार विश्वास उठे और माइक थामा, माइक थमते ही तालियां बजना शुरू हुईं, पर माइक ठीक नहीं होने और सही आवाज नहीं आने पर नाराजगी जताते हुए बोले – माइक सरकारी है, उसकी आवाज उतनी ही निकलेगी, जितनी सरकार चाहेगी।
उन्होंने कहा मैं पहली बार भोजपुर आया हूं और सरकारी कार्यक्रम करता नहीं हूं, पर मध्यप्रदेश सरकार और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा जी ने मुझे फोन किया और कहा कि आप कार्यक्रम में नहीं, आप तो भगवान भोले के दर्शन करने आ जाइए तो मैंने सोचा दुनिया के सबसे बड़े शिवलिंग के दर्शन कर लेता हूं। इसके बाद उन्होंने श्रोताओं से कहा कि मन लगाकर कवियों की कविताएं सुनें। उन्होंने कहा कि भोपाल धार और विदिशा के लोगों ने बहुत अच्छी तरीके से मुझे सुना था।

इशारों में सरकार को किया आगाह

कुमार विश्वास ने कहा कि हमने उनके बंद करा दिए। जिनकी केंद्र में 10 साल सरकार थी, तुम तो छोटे हो। अगली बार अगर समस्या हो तो हमें पैसा न दें। कम से कम अच्छी व्यवस्था कराए, मुझे मेरी आवाज सुनाई नहीं दे रही, मॉनिटर नहीं चल रहे। इसे अच्छा बनाओ। पहली बार भोजपुर आया हूं। वैसे सरकारी कार्यक्रम करता नहीं हूं, क्योंकि सरकारों की इतनी औकात नहीं होती कि वो सच सुन सके। जब इस कार्यक्रम के लिए विधायक और संस्कृति मंत्रालय ने फोन किया। मेरे दोस्त गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने फोन किया। मैंने उनसे कहा कि मैं सरकारी कार्यक्रम में जाता नहीं हूं। तब उन्होंने कहा कि आप जहां जा रहे हैं, वहां कि मान्यता सोमनाथ जैसी है।