वेतन से काटी राशि, कैसे चलाये घर खर्च महाकाल मंदिर में आउटसोर्स कर्मचारियों ने दिया धरना

0

उज्जैन। महाकाल मंदिर में सुरक्षा-व्यवस्था का जिम्मा संभालने वाले आउटसोर्स कर्मचारियों ने मंगलवार सुबह महाकाल लोक कंट्रोलरूम के सामने धरना दे दिया। कर्मचारी वेतन में से राशि काटने पर नाराजा थे। मंदिर की व्यवस्था ना बिगड़े इसको लेकर कर्मचारियों को तत्काल आश्वासन दिया गया और व्यवस्था को सुचारू किया गया। विवादों में रहने वाली केएसएस कंपनी द्वारा महाकाल मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा संभाल रखा है। जिसके अधीन सैकड़ो आउटसोर्स कर्मचारी काम कर रहे है। मंगलवार को कर्मचारियों का कंपनी के खिलाफ गुस्सा फूट पड़ा और उन्होने महाकाल लोक कंट्रोलरूम के पास प्रोटोकॉल आफिस के बाहर धरना दे दिया। सुरक्षा कर्मचारियों के धरने की खबर लगते ही हडकंप मच गया। जहां कंपनी के अधिकारी हरकत में आ गये, वहीं महाकाल मंदिर प्रबंध समिति ने भी संज्ञान लिया। धरना प्रदशर्न कर रहे कर्मचारियों ने नारेबाजी शुरू कर दी थी। कंपनी के अधिकारी मौके पर पहुंचे और कर्मचारियों की समस्या का जल्द समाधान करने का आश्वासन दिया। कर्मचारियों का धरना प्रदर्शन समाप्त कराया गया और उन्हे काम पर भेजा गया। मंदिर समिति की ओर कंपनी अधिकारियों से जानकारी ली और कर्मचारियों की समस्या को लेकर आगे से किसी प्रकार का व्यवधान नहीं होने की बात कहीं। दिपावली पर दिया बोनस तक काटा धरना प्रदर्शन में शामिल महिला-पुरूष कर्मचारियों ने बताया कि उनके वेतन से राशि काटी जा रही है। 10 हजार वेतन मिलता है, उसमें से भी 4 से 5 हजार रूपये काट लिये गये है। वेतन भी समय पर नहीं मिल पा रहा है। महिला कर्मचारियों का कहना था कि दीपावली पर दिया गया बोनस भी वेतन से काट लिया गया है। घर खर्च कैसे चलाये। कर्मचारियों ने नाम नहीं बताया लेकिन कंपनी के अजय चावरे पर  पूरा वेतन नहीं देने के आरोप लगाये। कुछ कर्मचारियों का कहना था कि छुट्टी लेने पर भी एक दिन के एक हजार रूपये तक काट लिये जाते है। पिछले चार-पांच माह से सैलेरी काटकर दी जा रही है। कंपनी से मांगा गया जवाव महाकाल मंदिर सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल ने बताया कि केएसएस के कर्मचारियों ने कुछ देर के लिये विरोध किया था। कर्मचारियों के विरोध पर  कंपनी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। यह संज्ञान में होना चाहिये कि कर्मचारियों के वेतन से राशि काटी जा रही है। डायरेक्ट वेतन काटना गलत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *