April 19, 2024

दैनिक अवंतिका(उज्जैन) शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में सक्रिय तीन गैंग के 6 सदस्यों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। गैंग रात में निकलती थी और आवारा रूप से विचरण करने वाली गायों को तलाशती थी। मिलने पर सूनसान मार्गो पर ले जाते थे और फिर वध करने के बाद अवशेष छोड़कर भाग निकलते थे। गैंग गायों का मांस इंदौर-देवास और आसपास के जिलों में ठिकाने लगाते थे। विगत शुक्रवार को माकडोन के ग्राम झालरा हाइवे मार्ग पर गाय के अवशेष मिलने पर हिन्दूवादी संगठनों और ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया था। पुलिस मौके पर पहुंची थी और पशु चिकित्सको से अवशेषों का परीक्षण करने के बाद मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 429, के साथ 4, 6, 9 गौवंश वध प्रतिषेध अधिनियम का प्रकरण दर्ज किया था। गाय का वध किया जाना सामने आने पर एसपी प्रदीप शर्मा ने आरोपियों की तलाश के लिये एक टीम गठित की।  जिसमें सायबर सेल टीम को शामिल किया गया। टीम ने गौवंश वध जैसा कृत्य करने वालों को चिन्हित किया जिसमें सामने आया कि ताजपुर, घौंसला और जीवाजीगंज क्षेत्र के कुछ लोग ऐसे मामले में पेशेवर रूप से शामिल है। पुलिस ने उनकी धरपकड़ के प्रयास शुरू किये। ताजपुर से अजमद उर्फ भिंडी पिता रहीम खां, अनस उर्फ अंटी उर्फ अनास पिता नाहरु खान, सोहेल पिता सलीम खान और तबरेज पिता सलीम खान को हिरासत में लिया गया। वहीं राघवी थाना क्षेत्र के ग्राम लांबीखेडी से समद पिता मेहमूद खां और घौंसला से आरिफ पिता मोहम्मद हनीफ खां को हिरासत में लिया। पूछताछ में माकडोन में गौवंश वध के साथ कच्ची शराब परिवहन करने के मामलों का खुलासा हो गया। तीनों अलग-अलग गैंग बनाकर रात में आवारा रूप से विचरण करने वाली गायों को चिन्हित करते थे और उन्हे सूनसान क्षेत्र में हांककर ले जाते थे। जहां वध करने के बाद मांस निकालकर अवशेष छोड़ जाते थे।स्वीफट कार का करते थे परिवहन में उपयोगएसपी प्रदीप शर्मा ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि गौवंश वध के साथ कच्ची शराब का परिवहन करने के लिये आरोपी स्वीफट कार का उपयोग करते थे। अमजद और समद की निशानदेही पर कार बरामद की गई है। उन्होने बताया कि आरोपियों की तलाश के दौरान तबरेज और सोहेल ग्राम गुनईजोड तराना-उज्जैन रोड पर मिले थे। उनके पास से कच्ची शराब भी बरामद हुई है। वहीं समद और आरिफ को लांबीखेड़ी फंटा से पकड़ा गया था, दोनों महुए से बनी शराब का परिवहन कर रहे थे। सभी आरोपियों ने कबूल किया कि वह गौवंश वध और शराब परिवहन संगठित रूप से करते है। एसपी के अनुसार सभी के खिलाफ पूर्व में भी अपराध दर्ज होना सामने आये है। गिरफ्त में आने पर उनके खिलाफ आबकारी अधिनियम की धारा 34 (2) के साथ 49 (ए) का प्रकरण भी दर्ज किया गया है। सभी के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की जाएगी। 25 से 30 मिनट में दिखा देते है काम आईपीएस राहुल देशमुख ने बताया कि गौवंश का वध करने वाले आरोपी काफी शातिर है। वह गायों को चिन्हित करने के बाद सूनसान मार्गो पर लेकर जाकर 25 से 30 मिनट में काम दिखा देते थे और मांस लेकर निकल जाते थे। उनके खिलाफ इंदौर, देवास, मंदसौर और उज्जैन में प्रकरण दर्ज है। अमजद के खिलाफ 12 और अनस के खिलाफ 8 प्रकरण अब तक दर्ज हो चुके है। तबरेज पर 5, समद पर 3 और आरिफ पर 6 अपराध दर्ज है। उनकी निशानदेही पर जब्त की गई कार की डिक्की में खून के निशान भी मिले है। सभी को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी। उनकी गैंग से जुड़े अन्य साथियों की जानकारी सामने आ सकती है।