April 19, 2024

दैनिक अवंतिका(उज्जैन) खदान में नहाने का बोलकर गया युवक पानी से बाहर नहीं आ पाया। परिजन उसकी तलाश में पहुंचे तो कपड़े और चप्पल दिखाई दिये। डूबने की आशंका में तलाश की गई लेकिन वह नहीं मिला। सोमवार सुबह उसका शव खदान के पानी से बाहर आ गया। पुलिस ने सूचना मिलने पर शव बरामद किया और पोस्टमार्टम के लिये जिला अस्पताल लेकर आई।शंकरपुर में रहने वाला बजरंग पिता शंकर भील 30 वर्ष के परिवार में कोई नहीं था। वह अपने जीजा  के साथ क्षेत्र में बनी खदान पर रहता था उसका विवाह भी नहीं हुआ था। शनिवार को वह खदान में भरे पानी के गड्ढे में नहाने का बोलकर गया था। उसके बाद वापस नहीं लौटा। उसकी तलाश करने पर चप्पल और कपड़े दिखाई दिये। उसकी पानी में तलाश की गई, लेकिन वह नहीं मिला। मामले की सूचना पुलिस तक पहुंची, उसके बाद तैराको से तलाश कराई गई, लेकिन खदान में गड्ढे में होने पर परेशानी आने पर तलाशी अभियान रोक दिया गया। सोमवार शव फूलने पर पानी से बाहर आ गया। कुछ  खदान पर काम करने वालों ने देखा तो उसके जीजा का जानकारी दी। सूचना मिलने पर पंवासा पुलिस भी पहुंच गई। शव को बाहर निकाला गया और मर्ग कायम कर  पोस्टमार्टम के लिये जिला अस्पताल लाया गया। जहां सामने आया कि उसे तैरना नहीं आता था, उसकी शादी भी नहीं हुई थी। वह मजदूरी करता था। पुलिस के अनुसार जीजा और उसके साथियों ने पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार कराया है।