April 15, 2024

उज्जैन। महिदपुर तहसील के झारडा थाना क्षेत्र के ग्राम सुमराखेड़ा में पारिवारिक जमीन के बटवारे में विवाद के चलते पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं करने से परेशान प्रभुलाल चौहान ने अपने ही खेत पर जहरीला पदार्थ खा लिया। परिजन उसे उपचार के लिए नजदीक के शाकीय अस्पताल में लाया गया यहाँ पर उसकी हालत बिगड़ने पर उसे उज्जैन जिला अस्पताल रेफर किया गया। जहाँ उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

मृतक के बेटे का आरोप..मौत की वजह पुलिस की लापरवाही..

मृतक के बेटे का आरोप है कि जमीन विवाद के चलते पिता काफी परेशान थे उनके हिस्से की जमीन पर परिवार के सदस्यों ने कब्ज़ा कर लिया विरोध करने पर आए दिन जान से मारने की धमकी और प्रताड़ित किया जा रहा था। यही नहीं उनके साथ मारपीट भी की गई थी। जिसकी शिकायत लेकर प्रभु लाल ने कई बार थाने पहुंचा। लेकिन पुलिस ने कोई ठोस कदम उठाया और ना ही कोई कार्यवाही की। जिससे कि वह मानसिक रूप से काफ़ी तनाव में था। झारडा थाने के लगातार चक्कर काटने के बाद थक हार कर पीड़ित ने अपने आप को मौत के हवाले करते हुए आत्महत्या की और कदम उठाया और जहर खाकर अपनी जान दे दी। मामले में चौकी पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौपा और जांच के लिए संबंधित थाने को सूचित किया । पुलिस अब पूरे मामले की जांच कर रही है। बरहाल जो भी हो पुलिस की बड़ी लापरवाही के चलते एक बेकसूर ने इंसाफ को लेकर अपने अधिकार की लड़ाई लड़ते हुए कानूनी कार्यवाही से हताश होकर आखिर कर पीड़ित प्रभु लाल प्रभु मिलन होगए । अब मृतक के परीजन लापरवाही बरतने वाले और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

रिपोर्ट विकास त्रिवेदी