चांद में दाग : घंटाघर अपनी खूबसूरती पर आंसू बहा रहा बंद पड़ी घंटाघर की घड़ी चालू करने की जरूरत

दैनिक अवंतिका(उज्जैन) शहर के बीचो-बीच आकर्षण का केंद्र घंटाघर अपनी खूबसूरती पर आंसू बहा रहा है। रात्रि में यहां पर मजदूर वर्ग रात्रि विश्राम करते हैं विश्राम के साथ यहां पर सभी प्रकार का खान-पान किया जाता है और गंदगी की जाती है, जिससे घंटाघर की खूबसूरती पर ग्रहण लगा हुआ है घंटाघर की घड़ी भी कई दिनों से बंद पड़ी हुई है नगर निगम इस और ध्यान देवें और घंटाघर पर जो मजदूर वर्ग गंदगी करते हैं उसे रोका जाए। तत्काल इस और ध्यान देकर घंटाघर की खूबसूरती पर लगने वाले ग्रहण को रोका जाए और घंटाघर की घड़ी को चालू किया जाए।

Author: Dainik Awantika