चंद्रमा-शनि की युति के साथ आज रात दिखाई देगा ब्लूमून

उज्जैन। खगोलीय घटनाओं में रूचि रखने वालों के लिये आज का दिन काफी खास होने जा रहा है। पूर्णिमा के साथ रक्षाबंधन के मौके पर आसमान में ब्लू सुपरमून दिखाई  देगा। जो आम पूर्णिमा की तुलना में अधिक बड़ा और चमकदार होगा। ब्लूमून के साथ चंद्रमा-शनि की युति का नजारा भी दिखाई देगा।
जीवाजीराव वेधशाला अधीक्षक डॉ. राजेन्द्र कुमार गुप्त ने बताया कि जब एक माह में 2 पूर्णिमा होती है तो दूसरी पूर्णिमा का चांद ब्लूमून कहलता है। एक अगस्त को पहली पूर्णिमा थी आज दूसरी पूर्णिमा रक्षाबंधन के साथ आई है। उन्होने स्पष्ट किया  कि ब्लूमून की स्थिति में चंद्रमा का रंग नीला नहीं होता है। चंद्रमा मौसम के अनुसार  पूर्णिमा की पूर्ण आभा के साथ चमकदार दिखाई देता है। आज रात चंद्रमा 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत ज्यादा चमकदार होगा। जो लगभग 3 लाख 57 हजार 181 किलोमीटर दूर रहकर पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए निकट बिंदू पर होगा। वेधशाल अधीक्षक के अनुसार ब्लूूमून के साथ दूसरी खगोलीय घटना चंद्रमा की शनिग्रह के साथ युति की होगी। युति का आशय पास-पास होना है। सायन गणना के अनुसार आज चंद्रमा कुंभ राशि में 29 अंश 20 कला पर होगा। वहीं शनिग्रह मीन राशि में 3 अंश 37 कला पर रहेगा। इस प्रकार दोनों खगोलीय पिंड कोणात्मक रूप से 4 अंश 17 कला की दूरी पर होगी। जिसके कारण चंद्रमा और शनिग्रह पास-पास दिखाई देगें।  आसमान में बादल नहीं होने पर चंद्रमा के नीचे की ओर शनिग्रह को चमकता हुआ देखा सकता है।
खुली आंखों से देख सकते है खगोलीय घटना
वेधशाला अधीक्षक आज रात होने वाली दोनों खगोलीय घटनाओं को खुली आंखों से देखा जा सकता है। इसके लिये टेलिस्कोप की आवश्कता भी नहीं होगी। सूर्यास्त के बाद पूर्णिमा का चंद्रमा पूर्व दिशा से उदय होता दिखाई देगा। उसके कुछ देर बाद ही शनिग्रह नीचे की ओर दिखाई देने लगेगा। बादल होने पर वेधशाला पर इसे दिखाने की व्यवस्था नहीं रहेगी। वहीं बादल नहीं होने पर आम लोग इसे अपने घरों की छत से भी आसानी के साथ देख सकेगें।
19 अगस्त 2024 को दिखेगा सीजन ब्लूमून
सोशल साइड पर नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू के अनुसार ब्लूमून का दूसरा प्रकार सीजनल ब्लूमून भी होता है। अगर तीन महिने में किसी खागोलीय सीजन में चार पूर्णिमा आती है तो तीसरी पूर्णिमा का चांद सीजनल ब्लूमून कहलता है। सीजनल ब्लूमून कम बार आता है। एक अनुसंधान के अनुसार 1100 सालों में 408 सीजनल ब्लूमून और 456 मंथली ब्लूमून की गणना सामने आई है। अगला ब्लूमून 2024 में 19 अगस्त को होगा और यह सीजनल ब्लूमून होगा।
Author: Dainik Awantika