April 15, 2024

इंदौर।  एमेज़ॉन इंडिया लगातार मशीन लर्निंग का भविष्य सुनिश्चित कर रहा है, मशीन लर्निंग समर स्कूल का तीसरा संस्करण लॉन्च किया
विद्यार्थियों को मशीन लर्निंग के मुख्य बिंदुओं का गहरा ज्ञान मिलेगा ।

22 अगस्त, 2023: आज एमेज़ॉन इंडिया ने मशीन लर्निंग (एमएल) समर स्कूल का तीसरा संस्करण लॉन्च किया; यह एक इमर्सिव प्रोग्राम है, जिसका उद्देश्य विद्यार्थियों को एमेज़ॉन के वैज्ञानिकों द्वारा मशीन लर्निंग टेक्नॉलॉजी सीखने का अवसर प्रदान करना और उन्हें मशीन लर्निंग के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए तैयार करना है। यह निःशुल्क शैक्षणिक कोर्स सितंबर में चार वीकेंड्स तक आठ मॉड्यूल्स में चलाया जाएगा, और विद्यार्थियों को मशीन लर्निंग के मुख्य बिंदुओं को समझने व सीखने का अवसर देगा। इनमें सुपरवाईज़्ड लर्निंग, डीप न्यूरल नेटवर्क्स, प्रोबेबिलिस्टिक ग्राफिकल मॉडल्स, डायमेंशनलिटी रिडक्शन, और अनसुपरवाईज़्ड लर्निंग शामिल हैं, जो सैद्धांतिक अवधारणाओं और प्रायोगिक अनुप्रयोगों में मज़बूत आधार बनाने पर केंद्रित हैं।

एमेज़ॉन में वाईस प्रेसिडेंट- इंटरनेशनल मशीन लर्निंग, राजीव रस्तोगी ने कहा, ‘‘एमेज़ॉन मशीन लर्निंग समर स्कूल का उद्देश्य विद्यार्थियों को एमएल टेक्नोलॉजी का एक मज़बूत आधार प्रदान करना है ताकि वो एकेडमिक्स से ऊपर उठकर एमएल के क्षेत्र में अपना करियर बना सकें। हम प्रतिभागी विद्यार्थियों को मूलभूत तत्वों से लेकर अत्याधुनिक तकनीक तक विस्तृत विषयों का सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षण प्रदान करना चाहते है, ताकि आधुनिक मशीन लर्निंग की उनकी बुनियादी मज़बूत बने। ट्यूटोरियल के सत्रों में सैद्धांतिक और प्रायोगिक ज्ञान के सत्र हैं, जो एमेज़ॉन में मशीन लर्निंग के वैज्ञानिकों द्वारा लिए जाते हैं, जो अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ होते हैं। पिछले कुछ सालों में हमारे इस प्रोग्राम को विद्यार्थियों से बेहतरीन प्रतिक्रिया मिली है, जिसने हमें इस प्रोग्राम को ज़्यादा मज़बूत और उपयोगी बनाने के लिए प्रोत्साहित किया है। यह प्रोग्राम मशीन लर्निंग में उत्कृष्टता का विकास करने और युवा प्रतिभाओं में एप्लाईड साईंस के कौशल का विकास करने का एक मंच है।”
सैद्धांतिक ज्ञान की पारंपरिक विधि से अलग, एमेज़ॉन के एमएल समर स्कूल में अनुप्रयोग पर केंद्रित अद्वितीय अध्ययन प्रणाली मिलती है। यहाँ विद्यार्थियों को न केवल सैद्धांतिक ज्ञान दिया जाता है, बल्कि वो प्रायोगिक अनुभव भी प्राप्त करते हैं, ताकि वो वास्तविक दुनिया की चुनौतियों के लिए तैयार हो सकें। इस प्रोग्राम के विशेष पाठ्यक्रम में व्यावहारिक अनुप्रयोग विद्यार्थियों को ज्ञान के साथ व्यवहारिक कौशल भी देते हैं। इसके अलावा, एमेज़ॉन का एमएल समर स्कूल विश्वविद्यालयों में विज्ञान के मौजूदा पाठ्यक्रम और उद्योग के रुझानों में तालमेल बिठाता है, और विभिन्न एमएल पृष्ठभूमि के विद्यार्थियों को व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करने को प्राथमिकता देता है।”

2021 में अपने पायलट प्रोजेक्ट के बाद एमेज़ॉन एमएल समर स्कूल ने तेजी से विकास करते हुए असाधारण वृद्धि की है। इसके पहले प्रोग्राम में 3500 से ज़्यादा विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया, जिसमें से सर्वोच्च 300 से अधिक विद्यार्थियों को प्रोग्राम में शामिल किया गया। इस सफलता को आगे बढ़ाते हुए, 2022 में इस प्रोग्राम में भारत में 17500 से ज़्यादा इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराये। इनमें से 2,880 विद्यार्थियों को इस प्रोग्राम में प्रवेश दिया गया। इस साल और ज़्यादा विस्तार करते हुए इस प्रोग्राम में भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान में पढ़ रहे इंजीनियरिंग विद्यार्थियों को शामिल कुआ जा रहा है, जिससे कक्षा का आकार और ज़्यादा बड़ा होगा।

मशीन लर्निंग समर स्कूल में भारत के किसी भी मान्यताप्राप्त संस्थान में पढ़ रहे और 2024 या 2025 में ग्रेजुएट हो रहे बैचलर/मास्टर्स/पीएचडी डिग्री के सभी विद्यार्थी हिस्सा ले सकते हैं। पात्र विद्यार्थियों को मशीन लर्निंग के मूलभूत सिद्धांतों और मैथ्स के बुनियादी तत्वों, जैसे प्रोबेबिलिटी, स्टेटिस्टिक्स, और लीनियर एलजेब्रा पर केंद्रित ऑनलाईन मूल्यांकन में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। इस मूल्यांकन में सर्वोच्च 3000 विद्यार्थियों का नामांकन मशीन लर्निंग समर स्कूल के लिए किया जाएगा। ये विद्यार्थी चार वीकेंड्स तक क्लासरूम सत्रों में आठ मॉड्यूल पूरे करेंगे, हर सत्र के बाद एक लाईव प्रश्नोत्तर सत्र एमेज़ॉन के वैज्ञानिकों द्वारा लिया जायेगा।

एमेज़ॉन एमएल समर स्कूल जैसे-जैसे अपने अगले चरण में प्रवेश कर रहा है, वैसे-वैसे एमेज़ॉन इंडिया मशीन लर्निंग में उत्कृष्टता का निर्माण करने और टेक्नोलॉजी उद्योग में भविष्य के नेतृत्वकर्ता तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध है। एमेज़ॉन एमएल समर स्कूल के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिये क्लिक करें: https://amazonmlsummerschoolindia.splashthat.com/