April 16, 2024

 21 अगस्त को रहेगा पर्व लेकिन मंदिर के पट 20 की रात को ही खुल जाएंगे

 उज्जैन। नागपंचमी पर्व 21 अगस्त को है। देशभर से इस बार 10 लाख श्रद्धालुओं के उज्जैन आने का अनुमान है। प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती महाकाल दर्शन, नागचंद्रेश्वर के दर्शन कराना और इसी दिन शाम को महाकाल की सवारी निकालना की है। इसे लेकर जिला व पुलिस प्रशासन के अफसर दिन-रात इंतजाम में लगे हुए।
अफसरों की पूूर टीम महाकाल मंदिर भी पहुंची और परिसर के साथ नागचंद्रेश्वर मंदिर जाने वाले मार्ग का अवलोकन किया। नागचन्द्रेश्वर का मंदिर महाकाल मंदिर के मुख्य शिखर के ऊपर है। इस मंदिर के पट 20 अगस्त रविवार की रात 12 बजे ही आम दर्शन के लिए खोल दिए जाएंगे तथा 21 अगस्त सोमवार को नागपंचमी के पर्व के साथ ही रात 12 बजे बंद होंगे। इस दौरान प्रशासन का अनुमान है कि करीब 10 लाख श्रद्धालु का यहां आगमन होगा। निरीक्षण करने वालों में प्रमुख रूप से संभागायुक्त डॉ. संजय गोयल, आईजी संतोष कुमार सिंह, डीआईजी अनिल कुशवाह, कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम, एसपी सचिन शर्मा शामिल थे।
मंदिर में चल रहे निर्माण फुट ब्रिज व महाकाल लोक भी देखा अफसरों ने मंदिर में चल रहे निर्माण कार्यो की जानकारी ली। नागचंद्रेश्वर मंदिर को जोड़ने वाले फुट ब्रिज की स्थिति देखी। निरीक्षण के बाद अधिकारियों ने महाकाल लोक की व्यवस्था देखने के बाद कंट्रोल रूम में बैठक कर व्यवस्था पर प्लानिंग की। कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने कहा इस बार सोमवार को नागपंचमी का पर्व होने से 24 घंटे दर्शन कराना और सवारी निकालना बड़ी चुनौती है। श्रद्धालुओं को मंदिर में सुलभ और सहजता से दर्शन हो तथा सवारी भी सुरक्षित निकल जाए ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है। बैठक में मंदिर प्रशासक संदीप सोनी, सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल भी मौजूद थे।