जमानत मिलते ही लॉकअप में पहुंचा सूदखोर गुर्जर

उज्जैन। पांच दिन में दर्ज हुए तीन केस के बाद एक मामले में जेल भेजे गये सूदखोर को जमानत मिलते ही पुलिस ने दूसरे मामले में गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय में पेश कर 2 दिन की रिमांड पर लिया गया है।
ढांचा भवन में रहने वाले सूदखोर मोंटू गुर्जर ने 7 दिसंबर को हीरामिल की चाल में रहने वाले कुणाल को बंधक बनाकर मारपीट की थी। 50 हजार उधार लेने पर 5 लाख लौटा चुके कुणाल के पिता ने बेटे को बंधक बनाने से आहत होकर फांसी लगा ली थी। चिमनगंज पुलिस ने कुणाल को बंधक बनाने के मामले में केस दर्ज कर मोंटू और उसके साथी अजय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मोंटू के खिलाफ 11 दिसंबर को अतिरिक्त विश्व बैंक कालोनी में रहने वाले कृष्णा उर्फ पप्पू पिता रमेश कुशवाह ने शिकायत दर्ज कराई है कि उसने 2018 में मोंटू से 20 हजार रुपए उधार लिये थे। प्रतिमाह 2 हजार रुपए लौटाना तय हुआ। 2 साल तक पैसे लौटाएं और पेलेन्टी भरी। बावजूद 1.92 लाख रुपए ओर की मांग कर चल-अचल संपत्ति पर कब्जे की धमकी दे रहा है। चिमनगंज पुलिस ने दूसरा मामला दर्ज कर जांच में लिया। इस बीच बंधक बनाने के मामले में मोंटू को बुधवार शाम न्यायालय से जमानत मिल गई। पुलिस ने उसके खिलाफ दर्ज धारा 384, 387, 6(1) 6 (2) म.प्र. निपेक्षकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2000 एवं 4 ऋणियों का संरक्षण अधिनियम का मामले में गिरफ्तार कर पूछताछ के लिये न्यायालय से 2 दिन की रिमांड पर ले लिया।