April 15, 2024

क्षिप्रा नदी के तट पर शून्य अपशिष्ट के साथ बनेगा गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड

पर्यटन की दृष्टि से उज्जैन को विश्व मंच पर स्थापित करने का भी है उद्देश्य

उज्जैन। महाकाल की नगरी में 1 मार्च, 2022 को शिव ज्योति अर्पणम महोत्सव के साथ इस महाशिवरात्रि को अब तक के सबसे भव्य समारोहों के रूप में मनाया जाएगा। समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी उपस्थित रहेंगे।
21 लाख दीये प्रज्ज्वलित करने के लक्ष्य के साथ, उज्जैन महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर शहर में दीप जलाए जाएंगे। शिव ज्योति अर्पणम नाम के इस कार्यक्रम की शुरुआत शहर की उत्कृष्टता, प्रतिभा और एकजुट भागीदारी को चिह्नित करने के लिए की जाएगी।
शिव ज्योति अर्पणम महोत्सव का उद्देश्य पर्यटन की दृष्टि से उज्जैन को विश्व मंच पर स्थापित करना और उज्जैन की ब्रांडिंग करना है ताकि प्रगति और विशिष्टता को सक्षम करने के लिए अपनी सामूहिक भावना को प्रतिष्ठित किया जा सके।

इस महोत्सव मनाने के लिए क्षिप्रा के घाटों, सभी मंदिरों, सार्वजनिक स्थलों और शासकीय परिसरों में, दीप जलाए जाएंगे. शहर के सभी निवासी भी अपने घरों में 5-5 दीपक जलाएं। इस आयोजन में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, बाजारों, दुकानों की साज-सज्जा के साथ-साथ दीप जलाना भी शामिल है। मोक्षदायिनी मां क्षिप्रा के तट पर 13 लाख दीपक जलाने का लक्ष्य रखा गया है, जो गिनीज वर्ल्ड स्थापित करने का प्रयास होगा। विश्व के सबसे बड़े जीरो वेस्ट कार्यक्रम की तर्ज पर आयोजित होगा शिव ज्योति अर्पणम महोत्सव।

कहां कितने जलेंगे दीपक

महाकाल मंदिर 151000, मगलनाथ मंदिर 11000, कालभैरव मंदिर एवं घाट पर 10000, गडकालिका मंदिर 1100, सिद्धवत मंदिर एवं घाट पर 6000, ्हरसिद्धि मंदिर 5000, टॉवर चौक 100000, अन्य सार्वजनिक स्थलों पर ्200000 इस प्रकार क्षिप्रा नदी के तट पर, सार्वजनिक स्थानों और घर-घर में जलाये जाने वाले दीपों की संख्या 21 लाख होगी।
13000 स्वयंसेवकों की क्षिप्रा घाट पर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड हेतु आवश्यकता  है, जिसके लिए 17,593 स्व-पंजीकरण पहले ही किया जा चुका है। इसमें कॉलेजों से 2913, निजी स्कूलों से 1210, सरकारी स्कूलों से 3090, राष्ट्रीय सेवा योजना से 1023, खेल और युवा कल्याण से 552, तीर्थ पुरोहितों, पंडितों और अखाड़ों से 513, क्षत्रिय मराठा समुदाय से 56, कायस्थ समुदाय से 285, कायस्थ समुदाय से 30 शामिल हैं। राठौर समुदाय से 95, गुजराती समुदाय से 120, सिंधी समुदाय से 100, अग्रवाल समुदाय से 173, सामाजिक संगठनों/समूहों/एनजीओ/सामाजिक कल्याण समूहों से 1027, कोचिंग संस्थानों से 1300, व्यावसायिक संगठनों से 111, राजनीतिक से 900 से पार्टियों, और पंचायत से 4000 एवं ग्रामीण क्षेत्रों के स्वयंसेवक द्वारा पंजीयन करवाया गया है।

महोत्सव की मुख्य विशेषताएं

स्वयंसेवकों का पंजीकरण (लगभग 13000) क्यूआर कोड ऐप पर आधारित होगा।
दुनिया की सबसे बड़ी मिट्टी के दीये की मूर्ति विकसित करने के लिए बचे हुए मिट्टी के दीयों का उपयोग किया जाएगा, जिसे शहर में स्थायी रूप से स्थापित किया जाएगा। कार्यक्रम के बाद, शेष तेल का उपयोग गौशाला, आदि में खाद्य पदार्थों के लिए किया जाएगा।
उद्यान में कुर्सियों, बेंच, बर्तन आदि बनाने के लिए लगभग 14000 खाली तेल की बोतलों का पुनः उपयोग किया जाएगा। मोमबत्तियों को जलाने के लिए पेपर माचिस का उपयोग किया जाएगा। जली हुई बत्तियों से रैन बसेरा में बेड बनाने के लिए पुनः उपयोग किया जाएगा।  खाने के लिए केवल बायो-डिग्रेडेबल कटलरी/प्लेट का उपयोग किया जाएगा।