गंगा दशहरा पर्व के लिए घाटों पर विशेष सौंदर्यीकरण और लाइटिंग की जाए

0

-कलेक्टर बोले – किसानों को संतुलित मात्रा में खाद का उपयोग करने के प्रेरित करें

 

 

जर्जर पुल पुलियों की शीघ्र मरम्मत कराएं ,वर्षा जनित बीमारियों की रोकथाम और उपचार की सभी तैयारियां की जाएं

 

उज्जैन। जल गंगा संवर्धन अभियान की सोमवार को समय सीमा बैठक में कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने विस्तार से समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने गंगा दशहरा पर्व के अवसर पर 15 पर 16 जून को आयोजित शिप्रा तीर्थ परिक्रमा की तैयारियों की समीक्षा की। बताया गया कि शिप्रा तीर्थ परिक्रमा में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री डॉ यादव द्वारा चुनरी अर्पण के साथ उज्जैन को विभिन्न विकास कार्यों की सौगात भी दी जाएगी।

 

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि गंगा दशहरा पर्व के लिए घाटों पर विशेष सौंदर्यीकरण और आकर्षक लाइटिंग लगाई जाए। शिप्रा तीर्थ परिक्रमा मार्ग के पड़ाव स्थलों पर वॉटर प्रूफ टेंट , पेयजल , चिकित्सा सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। कल शिप्रा तीर्थ परिक्रमा मार्ग का भ्रमण कर व्यवस्थाओं का अवलोकन किया जाएगा।

 

जनसहयोग निरंतर रहे-

जल गंगा संवर्धन अभियान में जनसहयोग से ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के चिन्हित तालाबों, चेकडैम, बावड़ियों  से गाद और कचरा निष्कासन, मरम्मत एवं सौंदर्यीकरण की गतिविधियां निरन्तर जारी रहें। विभिन्न सामाजिक संगठनों की भी इन गतिविधियों में सक्रीय सहभागिता की जाए। आयोजनों के दौरान स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी आमंत्रित करें।

जर्जर पूल पुलिया की मरम्मत शीघ्र करें-

बाढ़ आपदा प्रबंधन की समीक्षा पर कलेक्टर ने निर्देश दिए कि सड़क निर्माण संबंधी सभी विभाग जर्जर पुल पुलियों की शीघ्र मरम्मत कराएं। ऐसे सभी पुलों को जल प्रवाह के दौरान कोई पार न करें। इस संबंध में सावधानी के दृष्टिगत संकेतक लगाएं जाएं। इसी प्रकार ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में चिन्हित जर्जर भवनों को डिस्मेंटल करने की कार्यवाही शीघ्र कराएं। उन्होंने नाले नालियों के सफाई कार्य की जनपद और निकायवार समीक्षा कर शेष बचे नालों की सफाई भी शीघ्र कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नालों पर से अतिक्रमण भी तत्काल हटाएं जाए। उन्होंने घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

बचे किसानों को शीघ्र भूगतान करें-

कलेक्टर ने उपार्जन की समीक्षा कर शेष बचे किसानों का भुगतान शीघ्र करने के निर्देश उपार्जन संबंधी अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि खरीफ के लिए खाद, बीज ,कीटनाशक दवाइयों का पर्याप्त भंडारण किया जाए। समितियों से खाद का सुचारू रूप वितरण कराएं। खाद के संतुलित उपयोग के लिए किसानों को प्रेरित करें।

लार्वा सर्वे कर विनष्टीकरण करें-

वर्षा जनित बीमारियों के रोकथाम के लिए घरों के अतिरिक्त होटल्स और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर भी स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीम लार्वा सर्वे कर  विनष्टीकरण की कार्यवाही कराएं। सभी निकायों द्वारा अपने क्षेत्र में पानी की टंकियों को खाली करवाकर आवश्यक सफाई कर पुनः भरवाएं।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिला अस्पताल सहित उप स्वास्थ्य केंद्रों पर वर्षा जनित बीमारियों के उपचार के लिए दवाओं का पर्याप्त भंडारण कराएं। जिला अस्पताल में मलेरिया यूनिट बनाएं। सर्प दंश के उपचार के लिए मैदानी स्वास्थ्य केंद्रों पर भी पर्याप्त स्टॉक रखा जाए। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम द्वारा बड़े सब्जी और खाद्य प्रतिष्ठानों की सतत जांच की जाएं।

अधिकारी पहुंचेंगे स्कूलों में पढाने-

कलेक्टर ने स्कूल चले अभियान की सभी तैयारियां किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी स्कूलों में पढ़ाने के लिए अधिकारियों की ड्यूटी लगाएं। ये अधिकारी 20 जून को हर ब्लॉक में एसडीएम की अध्यक्षता में एक जगह एकत्रित होकर स्कूलों के लिए रवाना होंगे। सभी अधिकारियों को एक पत्रक भी दिया जाए, जिसमें स्कूल की व्यवस्थाओं और कमियों की जानकारी दर्ज कर रिपोर्ट दें। प्रवेश उत्सव में स्थानीय जन प्रतिनिधियों ,अधिकारियों के साथ स्कूलों के पूर्व छात्रों को आमंत्रित करें। उन्होंने कहा कि कक्षाओं के सौंदर्यीकरण के लिए विभिन्न पेंटिंग, वैज्ञानिक मॉडल बनाने की प्रतियोगिता भी आयोजित की जाए। कक्षाओं की बेहतर साज सज्जा करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत भी करें। स्कूलों में जहां स्थान उपलब्ध हो वहां दसवीं और बारहवीं की कक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों से पौधारोपण कराएं और वहां सूचना बोर्ड भी लगाएं। उन्होंने कहा कि जनसहयोग से शेष बचे स्कूलों में स्मार्ट क्लासेस संचालित किए जाएं। बताया गया कि जिले में 206 स्कूलों में से 145 स्कूल स्मार्ट क्लासेस युक्त हैं। स्मार्ट क्लासेस के लिए 61 स्कूल बचे हैं।

बैठक में सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की विभागवार समीक्षा कर निर्देशित किया कि शिकायतों का त्वरित निराकरण कराएं। शिकायतों का समाधान संतुष्टिपूर्वक हो यह सुनिश्चित करें। निराकरण में संतोष जनक प्रगति नहीं करने वाले विभाग सीएम हेल्पलाइन में अच्छा कार्य कर ग्रेडिंग सुधारें। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने भूमि अधिग्रहण, आवंटन , अवार्ड्स के प्रकरणों की भी समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *