April 19, 2024

उज्जैन । कैंसर रोगियों को अब अस्पतालों में अकेले रहकर डिप्रेशन का शिकार नहीं होना पड़ेगा। उज्जैन सहित प्रदेश के सरकारी एवं निजी अस्पतालों में तनाव से मुक्ति के लिए मनोरंजन एवं योग ध्यान की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी इसके लिए काउंसलर भी नियुक्त किए जाएंगे। अस्पतालों में ही ऐसी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी जिससे वह घर जैसा अनुभव कर सकें। कक्ष में टीवी, मनोरंजन के साधन, योग-ध्यान की व्यवस्था और तनाव से उबारने के लिए काउंसलर परामर्श देंगे।

सरकारी और निजी अस्पतालों में मनोरंजन और याेग-ध्यान की सुविधा भी रहेगी

उनके स्वजन भी साथ रहेंगे। निजी अस्पतालों में आयुष्मान योजना के माध्यम से यह सुविधा उपलब्ध कराने की तैयारी है । इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) के नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम के अनुसार मध्‍य प्रदेश में हर वर्ष 3500 से 4000 कैंसर रोगियों की मौत हो जाती है। यह बीमारी की तीसरी या चौथी अवस्था में होते हैं। इस दौरान कई रोगियों का दर्द भी असहनीय हो जाता है। पेलिएटिव केयर में दर्द निवारण के लिए नारकोटिक्स दवाएं दी जाती हैं। यह दवाएं रोगियों को अभी विशेष परिस्थिति में डाक्टर के लिखने पर ही मिल पाती हैं। इसके पहले भी वर्ष 2014 में भी स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए प्रयास किए थे। उज्जैन जिला अस्पताल में इसकी शुुरुआत भी हुई थी, पर यह सुविधा मात्र नाम के लिए ही रही। अब आयुष्मान योजना में शामिल होने पर पूरे मापदंडों के अनुरूप इनका संचालन हो सकेगा। हर जिला अस्पताल में इनकी काउंसलिंग के लिए काउंसलर्स नियुक्त किए जाएंगे जो तनाव से उबारने का काम करेंगे। योग-ध्यान कराने वाले भी रहेंगे।