April 16, 2024

दैनिक अवंतिका उज्जैन। आयुर्वेद पर शोध के लिये स्वीडन से आई युवती का हेंड बेग गायब होने का मामला सामने आया है। बेग में विदेशी दस्तावेज रखे थे। वहीं भारतीय करेंसी 10 हजार रूपये भी थे। मामले में नीलगंगा पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच में लिया है।
बताया जा रहा है कि स्वीडन से फ्रांसेस्का ब्रूनी पिता मार्सेलो ब्रूनी 24 फरवरी को अपने दोस्त लूका चियापिनी कार्पेन के साथ आयुर्वेद पर शोध करने के लिये आई थी। फ्रांसेस्का महानंदानगर में रहने वाली आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज की प्रोफेसर डॉ. मेघा पति आशीष शर्मा के संपर्क में थी और महेशनगर स्थित बेस्ट होम स्टे में ठहरी थी। 25 फरवरी की दोपहर ई-रिक्शा से वह दोस्त लूका के साथ उज्जैन घूमने निकले थे। शाम को गढ़कालिका मंदिर से वापस लौट रहे थे। इस दौरान फ्रांसेस्का को उसका हेंड बेग गायब होने की जानकारी लगी। उसने डॉ. मेघा शर्मा को कॉल किया और बेग गायब होने की बात बताई। डॉ. शर्मा ने रिक्शा चालक को नीलगंगा थाने जाने के लिये कहा और खुद भी थाने पहुंच गई। जहां पुलिस को बेग गायब होने की जानकारी दी गई। हेंड बेग में भारतीय करेंसी 10 हजार के साथ स्वीडन और इटालियन आईडी कार्ड, इटालियन ड्रायविंग लायसेंस, स्वेड बैंक का स्वीडीस डेबिट कार्ड,पोस्ट पे एवं यूनिक क्रेडिड के इटालियन डेबिड कार्ड और हेल्थ इंशोरेंसन कार्ड रखा था। नीलगंगा पुलिस ने मामले में प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया है। विदेशी युवती के बेग गायब होने के दौरान एसपी प्रदीप शर्मा भी भ्रमण पर निकले थे, वह नीलगंगा थाने पहुंचे, जहां उन्हे भी विदेशी शोधार्थी का बेग गायब होने का मामला पता चला। उन्होने पुलिस को मामले में संज्ञान लेकर जांच के निर्देश जारी किये है।