भाजपा कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी व टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का पुतला जलाया

देवास। कांग्रेस और घमंडी गठबंधन के लोगों ने जिस तरह से संसद में हंगामा किया, और उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ का मखौल उड़ाया गया, यह सिर्फ राज्यसभा के सभापति का अपमान नहीं है, बल्कि यह देश की 140 करोड़ जनता का अपमान है। यह विदेशों में बसे लाखों भारतीयों का भी अपमान है और इस घटना से पूरा देश आंदोलित है। इस शर्मनाक कृत्य के लिए राहुल गांधी और सोनिया गांधी को देश की जनता से सार्वजनिक रुप से मांफी मांगनी चाहिए। प्राधिकरण अध्यक्ष व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य के नेतृत्व में सयाजी गेट पर टीएमसी सांसद कल्याण बûनर्जी, राहुल गांधी का पुतला दहन किया।
खंडेलवाल ने कहा कि उपराष्ट्रपति के अपमान की इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में भले ही घमंडी गठबंधन के नेता भी शामिल रहे हों, लेकिन कांग्रेस पार्टी इस पूरे मामले में अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती। उपराष्ट्रपति की मिमिक्री भले ही टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने की हो, जो कैमरे के सामने एक महिला विधायक के गाल खींचकर अभद्रता करने में संकोच नहीं करते। लेकिन अपने ठहाकों और तालियों से उत्साहवर्धन करने वाले अन्य दलों के सांसद भी इसमें सहभागी रहे हैं। कांग्रेस पार्टी वोट की राजनीति को देखते हुए पिछड़ा वर्ग की हितैषी होने का ढोंग करती है। हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस पार्टी ने ओबीसी के हितों की बात की थी, लेकिन इस घटना ने यह साबित कर दिया है कि कांग्रेस पिछड़ा वर्ग का सम्मान नहीं करती। उसके खाने के दांत और हैं, दिखाने के और हैं। कांग्रेस पार्टी और उसके नेता राहुल गांधी अभी तक झूठ, छल, कपट की राजनीति करते रहे हैं, लेकिन अब ओबीसी का अपमान करना भी उनके राजनीतिक एजेंडे में शामिल हो गया है।

Author: Dainik Awantika