April 16, 2024

उज्जैन: लीकेज के कारण पानी का अपव्यय अत्यन्त खेद जनक है, त्वरित संधारण सुनिश्चित करें, अपेक्षित सामग्री खरीदी प्रस्तावित कर जल प्रदाय व्यवस्था को और बेहतर बनाएं।
यह निर्देश निगम आयुक्त श्री रौशन कुमार सिंह ने दिये हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की बैठक में जल प्रदाय व्यवस्था की समीक्षा करते हुए निगम आयुक्त ने प्रतिदिन होने वाली पानी की खपत की जानकारी प्राप्त की। बताया गया कि अभी गंभीर में 1867 एमसीएफटी पानी है। प्रतिदिन 08 एमसीएफटी पानी की खपत के मान से जल प्रदाय जुलाई के दूसरे सप्ताह तक किया जा सकता है।  निगम आयुक्त ने निर्देशित किया कि फिलहाल कम से कम 31 जुलाई तक जल प्रदाय सुनिश्चित किया जाए इस हतु प्रतिदिन पानी की खपत को कम करने के प्रयास किए जाएं। जो वाल्व खराब हो गए हैं उन्हें बदला जाए, जहां जहां लीकेज के कारण पानी अनावश्यक बह रहा है वहां लीकेज बंद किये जाएं, बिना टोटी के ओपन लाईन से बहने वाले पानी को रोका जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी दशा में पानी का अपव्यय ना हो।
जलकर वसूली की समीक्षा करते हुए आपने लक्ष्य से बहुत कम वसूली पर नाराजगी व्यक्त की ओर सम्बंधितों को कम वसूली पर कारण बताओ सूचना पत्र देने के निर्देश दिये।
उपयंत्री श्री दयाराम चौहान को पर्याप्त वसूली नहीं करने पर एक वेतन वृद्धि रोके जाने बाबत् कारण बताओ सूचना पत्र दिये जाने के निर्देश दिये।
09 दिसम्बर तक 5 करोड़ वसूलें
निगम आयुक्त श्री रौशन कुमार सिंह ने पीएचई अधिकारियों को सख्ती से निर्देशित किया कि 09 दिसम्बर लोक अदालत आयोजन के पूर्व 5 करोड़ रूपये जल कर की वसूली सुनिश्चित करें। 10 दिसम्बर को पुनः समीक्षा की जाएगी और लक्ष्य अनुसार वसूली नहीं किये जाने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध वेतन रोके जाने की कार्यवाही की जाएगी। इसी आधार पर गोपनीय चरित्रावली में इन्द्राज होगा।
अपर आयुक्त देखें  निगम आयुक्त श्री रौशन कुमार सिंह ने निर्देशित किया कि पीएचई अपर आयुक्त श्री आर.एस. मण्डलोई नियमित रूप से पीएचई अधिकारियों के साथ बैठंे और यह सुनिश्चित करें कि नियमित जल प्रदाय में व्यवधान ना हो। कभी कभी किसी खराबी के कारण कोई रूकावट उत्पन्न हो उसका त्वरित समाधान किया जाए, किन्तु आए दिन ऐसी स्थिति उत्पन्न ना हो। जलकर वसूली पर नियमित नज़र रखें और अवैध नल कनेक्शन वैध किये जाने की कार्यवाही को गति दें। बैठक में अपर आयुक्त श्री आर.एस. मण्डलोई, कार्यपालन यंत्री श्री एन.के. भास्कर सहित पीएचई के अधिकारी उपस्थित रहे।