कृष्णं वंदे जगद्गुरुम्

वास्तविक कहानी तब शुरू हुई जब उडुपी के राजा को युद्ध के बारे में पता चला और वह अपने सैनिकों के साथ कुरुक्षेत्र आये। उन्होंने भगवान कृष्ण से मुलाकात की और कहा कि मैं यहां लड़ने के लिए आया था लेकिन मेरा दिल/दिमाग मुझे भाग लेने की अनुमति नहीं दे रहा था और मैं किसी भी पक्ष का सांथ नहीं देना चाहता था। फिर भी, मेरे पास एक प्रस्ताव है और मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मेरे प्रस्ताव को स्वीकार करें और मुझे आशीर्वाद दें।
भगवान कृष्ण और उडुपी के राजा के बीच जो बातचीत हुई वह इस प्रकार थी-

भगवान कृष्ण ने पूछा: आपका प्रस्ताव क्या है?

उडुपी के राजा ने कहा: मैं युद्ध में भाग लेने वाले सभी वीरों और महावीरों के लिए भोजन तैयार करना चाहता हूँ।भगवान कृष्ण ने उनके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और उन्हें भोजन की व्यवस्था करने की अनुमति दे दी। उडुपी के राजा ने भोजन बनाना शुरू कर दिया और हर दिन जब सभी योद्धा अपना भोजन लेते थे, तो वह जो भी पकाते थे, वह भोजन दिन के अंत में पूरी तरह से समाप्त हो जाता था। इसका मतलब है कि भोजन की बर्बादी नहीं हुई और यह सभी के लिए प्रचुर मात्रा में उपलब्ध भी था। 18 दिन में युद्ध समाप्त हुआ और पांडव युद्ध जीत गए। जब उन्हें उचित भोजन योजना के बारे में पता चला तो हर कोई आश्चर्यचकित हो गया।
हस्तिनापुर का शासन अधिकार होने के बाद, एक दिन हस्तिनापुर नरेश महाराज युधिष्ठिर ने उडुपी के राजा से इसके पीछे के तर्क के बारे में पूछा। उडुपी के राजा ने महाराज युधिष्ठिर से पूछा: हे महाराज, क्या आप कृपया मुझे बता सकते हैं कि आप अपनी जीत का श्रेय किसे देंगे।

महाराज युधिष्ठिर ने उत्तर दिया: भगवान कृष्ण को..

तब उडुपी के राजा ने उत्तर दिया: भगवान कृष्ण मेरे कर्मों के लिए भी जिम्मेदार हैं। वह हर दिन रात में मूंगफली खाते थे और अगले दिन जब हम उसके तंबू के अंदर दाखिल होते, तो हमें लमेला (मूंगफली का छिलका) जमीन पर पड़े हुए मिलते । हम सभी लमेला (मूंगफली का छिलका) इकट्ठा करते और उनको गिन लेते। हम गिने हुए लैमेला को 1000 से गुणा करते हैं और हमें उस दिन होने वाली मौतों की संख्या पता चल जाता और हम उसी के अनुसार अपना भोजन तैयार करते थे ।
जैसा कि हम जानते हैं भगवान श्रीकृष्ण सब कुछ जानते थे और वे महाभारत का परिणाम भी जानते थे। वह उडुपी नरेश को भोजन बनाने में मदद करने के लिए मूंगफली खा रहे थे । इसलिये भगवान् कृष्ण को “कृष्णं वंदे जगद्गुरुम् ” कहा गया है जो की पुरे विश्व के गुरु है , मार्ग प्रशस्त करते हैं और सहायता करते है।

Author: Dainik Awantika