तबादलों के बाद थानों में जवानों की कमी -स्वीकृत तैनाती 70 की, वर्तमान में 23 पुलिसकर्मी

उज्जैन। जिले में अपराधों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है, वहीं कई थानों पर पुलिस बल की कमी दिखाई दे रही है। कुछ थानों में तो पुलिस जवानों की संख्या काफी है। कुछ में चंद पुलिसकर्मी ही पदस्थ दिखाई दे रहे है। जिसमें बडऩगर थाना सबसे कम बल के साथ ड्युटी कर रहा है, यहां थाना प्रभारी भी नहीं है, जबकि थाने की सीमा में 70 गांव लगते है। पिछले माह विधानसभा चुनावों के चलते निर्वाचन आयोग के निर्देश पर एक ही थाने में तीन सालों से पदस्थ पुलिसकर्मियों की स्थानांतरण सूची जारी की गई थी। जिसके बाद से जिले के कई थानों में पुलिस जवानों की संख्या काफी कम हो गई है।  सूत्रों से मिली खबर के अनुसार इन दिनों बडऩगर थाना टीआई विहिन होकर मात्र 22-23 पुलिसकर्मियों के भरोसे चल रहा है। यहां 60 से अधिक पुलिसकर्मियों का   बल स्वीकृत है। बताया जा रहा है कि थाना क्षेत्र की सीमा में 70 गांव लगते है, एक  गांव पर एक पुलिसकर्मी भी नहीं बचा है। थाने पर पूर्व में 35 आरक्षक, 13 प्रधान आरक्षक, 9 एसआई, 11 एएसआई के साथ टीआई की तैनाती थी, वर्तमान में 6 एसआई, 9 एएसआई 2 प्रधान आरक्षक और 6 आरक्षक तैनात है। जिसमें से एक कम्प्यूटर पर पदस्थ है, दूसरा वारंट तामिली और तीसरा कोर्ट मुंशी है। जो पुलिसकर्मी ड्युटी कर वह 18 से 20 घंटे काम में लगे है। वहीं वीआईपी, धार्मिक आयोजन, जुलूस में ड्युटी होने पर थाना 2 से 3 पुलिसकर्मियों के भरोसे हो जाता है।शहर के थानों पर भी बल की कमीग्रामीण क्षेत्रों में बल की कमी के साथ शहरी के थानों में भी पर्याप्त पुलिसकर्मी नहीं होना सामने आ रहे है। शहर के थानों में 70 से 80 पुलिसकर्मियों का बल स्वीकृत है, लेकिन थानों पर आधे पुलिसकर्मियों की ही तैनाती है। शहर में बाबा महाकाल का मंदिर होने पर आये दिन वीआईपी मूवमेंट बना रहता है और धार्मिक आयोजन होते  रहते है। सुरक्षा में हर थाने का बल तैनात किया जाता है, जिसके चलते थानों के काम प्रभावित हो रहे है।अपराधों का नहीं हो पा रहा निकालसूत्रों का कहना है कि पुलिस बल की कमी के चलते थानों में दर्ज होने वाले अपराधों का निकाल भी समय पर नहीं हो पा रहा है। लाइन आर्डर की ड्युटी होने पर वह काम नहीं कर पा रहे है। आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए मीटिंग का दौर भी शुरू हो चुका है। वहीं सप्ताह में एक बार मिलने वाला अवकाश भी काम का दबाव अधिक होने पर नहीं मिल पा रहा है।समीक्षा बैठक में झेलना पड़ी नाराजगीअपराधों के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए गुरूवार को पुलिस कंट्रोलरूम पर कप्तान सचिन शर्मा ने सभी थाना प्रभारियों की समीक्षा बैठक बुलाई। जिसमें लगातार हो रही चेन स्नेचिंग, लूट, मोबाइल झपटने की वारदात, चोरियां, ठगी के साथ चाकूबाजी, मारपीट के मामलों में कई थाना प्रभारियों कप्तान की नाराजगी झेलना पड़ गई। कप्तान ने निर्देश जारी किये है कि पिछले कुछ दिनों में जो चेन स्नेचिंग, लूट, वाहन चोरी और ठगी की वारदात हुई है। उसमें बदमाशों का पता जल्द लगाया जाएं। चैकिंग, पेट्रोलिंग गश्त लगातार की जाये।

You may have missed