पानी की कमी के कारण फसल सूख रही, खण्ड वर्षा अन्नदाता के सपनों को भी कर रही खण्ड- खण्ड

रुनिजा। इस बार मानसून का मिजाज कुछ अलग ही चल रहा है। कही कही मूसलाधार बारिश के साथ पानी ही पानी कर दिया तो कही कही सूखा ही छोड़ दिया है। इस खण्ड वर्षा के चलते अन्नदाता निराश हैं। क्योंकि सावन बीत चुका है अब भादो से ही आस लगाए रहा है।।बड़नगर के आसपास के क्षेत्र में कई ग्रामो में कुई दिनों से वर्षा नहीं होने के कारण फसल सूखने लगी है ।
इस बार किसान ने अलग अलग प्रजाति केक सोयाबीन लगाई है। जिनमे कुछ ने कम पानी की सोयाबीन बौई है तो कुछ ने ने ज्यादा पानी वाली इस संदर्भ में बड़गावा के युवा किसान सुनील पाटीदार , गोपाल दुबे , सुरेश भूत , राधेश्याम मदारिया ने बताया कि बड़गावा हमारे अलावा ऐसे कई किसान भाई है जनकु सोयाबीन पहले अधिक बारिश के कारण गल गई थी। तथा अब पर्याप्त बारिश नही होने से जमींन में दरारे पडने लगी है व सोयाबीन सुख रही है।
इसी प्रकार सुन्दराबाद के उत्कृष्ट किसान रामेश्वर पाटीदार ने बताया कि उन्होंने अपने खेत में रुचि सोयाबीन लगाई है जो लगभग 90 से 100 दिनों के बीच में पक कर तैयार हो जाती है ।अभी सोयाबीन 70 दिन की हुई है वह पानी नहीं गिरने से फसल में 40 से 50% नुकसान हो रहा है लंबी वैरायटी की सोयाबीन में तो 80% नुकसान की संभावना है। किसान चिंतित है वह इंद्रदेव की पूजा अर्चना कर अच्छी वर्षा की कामना कर रहा है ।
इसी संदर्भ में तउवा कृषक दीपक पडया ने बताया कि 1135 सोयाबीन में बहुत नुकसान होगा ।क्योंकि अभी सोयाबीन फल फूल ही चल रहे हैं । किंतु दो-चार दिन में अगर अच्छी बारिश होती है किसान की चिंता दूर होगी।वरना भारी नुकसान हो जावेगा। सुबदराबाद के ही एक ओर किसान गोकुलदास बैरागी ने कहां की पानी की लंबी खिंच के कारण सोयाबीन में इल्ली का प्रकोप भी नजर आ रहा है जैसे ही पानी गिरता है इल्ली का प्रकोप भी दूर हो जाएगा किसान की खुशी वापस लौटकर आ जाएगी।

Author: Dainik Awantika