छत्रीचौक पर दिया धरना, खाराकुआ थाने का किया घेराव -मामला ठेला व्यवसाई की आत्महत्या का

उज्जैन। ठेला व्यवसाई की आत्महत्या के बाद शव को छत्री चौक पर रख नगर निगम कर्मचारी के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की मांग कर चुके परिजनों ने एक बार फिर मंगलवार को छत्री चौक पर धरना दे दिया। परिजनों के समर्थन में हिन्दूवादी संगठन भी आ गया और खाराकुआं थाने का घेराव कर प्रकरण दर्ज करने की मांग रखी। पुलिस ने निगम कर्मचारी के खिलाफ तीन धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है।
रक्षाबंधन पर्व के चलते छत्रीचौक क्षेत्र में ठेला लगाकर व्यवसाय कर रहे राम पिता रामेश्वर बांबीवाल ने शनिवार को नगर निगम गैंग कर्मचारी आशिक पहलवान की धमकी और गाली-गलौच के बाद जहर खा लिया था। जिसकी कुछ देर चले उपचार के बाद मौत हो गई थी। परिजनों ने आरोप लगाया था कि नगर निगम कर्मचारी धंधा-व्यवसाय नहीं करने देने और अतिक्रमण का हवाला देकर मारपीट और गाली-गलौच कर रहे थे। 2-3 दिनों से राम को प्रताडि़त किया जा रहा था, सभी के सामने उसे गालियां दी जा रही थी। पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने देर शाम शव छत्रीचौक पर रख निगम कर्मचारी का मकान तोडऩे और प्रकरण दर्ज करने की मांग रखी थी। मौके पर पहुंचे एडीएम अनुकूल जैन, एएसपी जयंतसिंह राठौर ने निष्पक्ष जांच के बाद मामले में कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था। तीन दिन बाद भी प्रकरण दर्ज नहीं होने पर परिजनों ने समाजजनों के साथ फिर से छत्रीचौक पर धरना दे दिया। मामले ने तूल पकड़ा तो हिन्दूवादी संगठन के अंकित चौबे, रूपेश ठाकुर भी दर्जनों कार्यकर्ताओं के साथ परिजनों को न्याय दिलाने के लिये पहुंच गये। उन्होने धरना स्थल से खाराकुआ थाना पहुंचकर घेराव कर दिया और मांग रखी कि मृतक के परिवार को नगर निगम में नौकरी दी जाये। इस दौरान पार्षद प्रकाश शर्मा भी पहुंचे और बताया कि छत्रीचौक को सुंदर बनाने के लिये अतिक्रमण हटाया गया है, लेकिन त्यौहारी सीजन में यहां बाजार लगाया जाता है। लेकिन परिजन और हिन्दूवादी संगठन प्रकरण दर्ज करने की मांग पर अड़े रहे। मौके पर पहुंचे सीएसपी ओमप्रकाश मिश्रा ने बताया कि मामले में जांच की जा रही है। घटनास्थल के आसपास के फुटेज देखे गये है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा था। परिजनों के बयान दर्ज कर मामले में प्रकरण दर्ज किया जा रहा है। मौके पर मौजूद परिजनों के खाराकुआ पुलिस ने बयान दर्ज किये और निगम कर्मचारी आशिक पहलवान निवासी हेलावड़ी के खिलाफ धारा 306, 384, 294 का प्रकरण दर्ज कर लिया। छत्रीचौक से खाराकुआ थाने के बीच 2 से ढाई घंटे तक मामला गरमता रहा। जिसके चलते रक्षाबंधन के एक दिन पहले बाजार में जाम की स्थिति नजर आई।
महापौर से मिलने पहुंचे निगम कर्मचारी
निगम कर्मचारी आशिक पहलवान के खिलाफ प्रकरण दर्ज होने पर नगर निगम के कर्मचारी भी एकमत हो गये। रिमूव्हल गैंग के दर्जनों कर्मचारी महापौर से मिलने उनके निवास पहुंचे और बताया कि ऐसी स्थिति में काम नहीं कर पायेगें। जहां भी व्यवस्थाओं को सुधारने पहुंच रहे है, वहां ठेला लगाने और छोटे व्यवसाई अब हमे डरा रहे है। महापौर मुकेश टटवाल ने मामले में कर्मचारियों को निष्पक्ष जांच कराने का आश्वासन दिया।
Author: Dainik Awantika