April 20, 2024
दैनिक अवंतिका उज्जैन।
श्रावण के अधिकमास में महाकाल भगवान की छठी सवारी आज सोमवार को निकेलगी। सवारी में बाबा सप्तधान्य स्वरूप में श्रद्धालुओं को दर्शन देंगे।
मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक संदीप कुमार सोनी ने बताया कि छठी सवारी में पालकी में 6 रूप निकलेंगे। पालकी में चन्द्रमौलेश्वर, हाथी पर मनमहेश, गरूड़ के रथ पर शिव तांडव और नन्दी के रथ पर उमा-महेश, डोल के रथ पर होल्कर स्टेट के मुखारविंद एवं रथ पर  घटाटोप विराजित होकर अपनी प्रजा का हाल जानने नगर भ्रमण पर निकलेंगे। सवारी निकलने के पूर्व मंदिर के सभामंडप में भगवान चन्द्रमोलेश्वर का विधिवत पूजन-अर्चन होगा। उसके पश्चात पालकी में विराजित होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे। मंदिर के मुख्य द्वार पर सशस्त्र पुलिस बल के जवानों द्वारा पालकी में विराजित भगवान को सलामी दी जावेगी।
सवारी इस मार्ग से गुजरेगी
शिप्रा नदी पर होगा पूजन
सवारी परंपरागत मार्ग महाकाल चौराहा, गुदरी चौराहा, बक्षी बाजार और कहारवाडी से होती हुई रामघाट पहुंचेगी। जहॉ क्षिप्रा नदी के जल से भगवान का अभिषेक और पूजन-अर्चन किया जावेगा। इसके बाद सवारी रामानुजकोट, मोढ की धर्मशाला, कार्तिक चौक खाती का मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, ढाबा रोड, टंकी चौराहा, छत्री चौक, गोपाल मंदिर, पटनी बाजार और गुदरी बाजार से होती हुई पुन: श्री महाकालेश्वर मंदिर पहुंचेगी।
घर बैठे सवारी को ऑनलाईन
भी देख सकेंगे देश-विदेश में
भगवान महाकाल की सवारी का लाइव प्रसारण  महाकाल मंदिर प्रबंध समिति के फेसबुक पेज पर  किया जाएगा। देश-विदेश के लोग घर बैठे दर्शन कर सकेंगे।