April 15, 2024

इंदौर। दिव्यांग मोहन पाल आत्महत्या केस में पुलिस ने जांच आगे बढ़ा दी है। जोन-4 के डीसीपी आरकेसिंह ने थाने के सीसीटीवी फुटेज निकलवाए हैं। फुटेज में मोहन आते-जाते दिखाई दे रहा हैं। उसके हावभाव से वह सामान्य नजर आ रहा है। डीसीपी ने एसआइ अमोद उईके के विरुद्ध जांच शुरू करवा दी है। मोहन ने एसआइ पर अभद्रता का आरोप लगाया था। सुसाइड नोट में भी एसआइ का जिक्र किया है। आकाश नगर निवासी मोहन पुत्र अमन पाल ने मंगलवार रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। मोहन रेतीमंडी में चाय की दुकान चलाता था। उसने द्वारकापुरी थाना के एसआइ अमोद उईके पर अभ्रदता का आरोप लगाया था। मोहन के साथ शादी के नाम पर 95 हजार रुपये का धोखा हुआ था। कलेक्टर व डीसीपी आफिस शिकायत करने पर अफसरों ने उसको द्वारकापुरी थाना भेजा था। लेकिन यहां पुलिसवालों ने गाली-गलौज की और फटकार लगाकर भगा दिया। दुखी मोहन ने भाई रतिराम को वाट्सएप पर सुसाइड नोट भेजा और फांसी लगा ली। एसआइ को निलंबित कर थाना के सीसीटीवी फुटेज निकाले तो मोहन जाते हुए नजर आया। उसके हाथ में शिकायती आवेदन भी था। उसके हावभाव सामान्य से नजर आ रहे थे।
मोहन पाल का वो आवेदन जो थाने में देना चाहता था
शादी के नाम पर एजेंट प्रवेश शर्मा द्वारा मुझसे 95 हजार रुपये की ठगी की है। प्रवेश शादियां करवाता है। उसके कहने पर सहरसा (बिहार) चला गया। 96 हजार रुपये ले लिए और लड़की का फोटो दिखाया। उसने फोन उठाना बंद कर दिया। उसने 20 हजार नकद और 65 हजार एजेंट श्यामसुंदर शर्मा उर्फ दिनेश कुमार को आनलाइन जमा करवाए है। अलग-अलग नंबरों से काल कर मुझे बोल पूर्णिया थाने का बोल रहे है। मुझे अंदर करने की धमकी दे रहे हैं।