तूफान के दौरान गुजरात में 700 बच्चे जन्मे

ब्रह्मास्त्र द्रजकोट
अरब सागर में उठा चक्रवात बिपरजॉय 15 जून की शाम गुजरात के कच्छ में तट से टकराया। जब तूफान कहर बरसा रहा था, तभी रेस्क्यू कैंप में 700 से ज्यादा बच्चों ने जन्म लिया।

दरअसल, तूफान आने से 72 घंटे पहले ही गुजरात सरकार ने 8 हाई रिस्क जिलों से करीब 1 लाख लोगों को रेस्क्यू करके कैंप में भेजा था। रेस्क्यू किए गए लोगों में 1,152 गर्भवती महिलाएं भी शामिल थीं। इनमें से 707 महिलाओं ने अस्पतालों और हेल्थ सेंटर्स में तूफान के दौरान बच्चों को जन्म दिया। गुजरात सरकार ने बताया कि बच्चों की डिलीवरी में कोई परेशानी न आए, उसके लिए 302 सरकारी वाहन और 202 एम्बुलेंस तैनात की गई थीं। इन एम्बुलेंस में मेडिकल स्टाफ मौजूद था, जो दिन-रात गर्भवती महिलाओं की देखभाल में लगा रहा।
गुजरात के तट से टकराने के बाद तूफान अपने पीछे बड़ी तबाही छोड़ गया है, लेकिन स्थानीय नागरिकों, प्रशासन, और सरकार के प्रयास से बड़ी जनहानि को रोकने में कामयाबी मिली है। सरकार ने तूफान मैनेजमेंट पर ओडिशा मॉडल को अपनाया। बिपरजॉय के गुजरात तट से टकराने की 72 घंटे पहले ही पुष्टि हो गई थी। इसके बाद सरकार और राहत दलों ने बेहद तेज रफ्तार से काम किया।

You may have missed