मप्र में ‘बिपरजॉय’ का असर, यलो अलर्ट जारी, 18-19 जून को ग्वालियर-चंबल में तेज बारिश

 50किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलेंगी हवाएं

ब्रह्मास्त्र भोपाल

गुजरात समेत देश के कई हिस्सों में खतरनाक हो चुका तूफान ‘बिपरजॉय’ मध्यप्रदेश में भी असर दिखा सकता है। 18-19 जून को राजस्थान से सटे ग्वालियर-चंबल में तेज बारिश हो सकती है। हवा की रफ्तार 50किमी प्रतिघंटा या इससे ज्यादा रह सकती है। मौसम विभाग ने तूफान को लेकर यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे पहले भी प्रदेश में प्री-मानसून की गतिविधियां जारी रहेगी। कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है, लेकिन बड़े हिस्से में दिन-रात में तेज गर्मी का असर देखने को मिलेगा। आईएमडी भोपाल की सीनियर मौसम वैज्ञानिक ममता यादव ने बताया कि 19 जून या इससे पहले तूफान से संबंधित लो प्रेशर एरिया का सेंटर नॉर्थ ईस्ट राजस्थान के आसपास रहेगा।

इसके चलते पश्चिमी मध्यप्रदेश के इलाके खासकर ग्वालियर-चंबल संभाग में कहीं-कहीं बारिश होगी। ग्वालियर, दतिया, भिंड, मुरैना, श्योपुरकलां में तेज बारिश हो सकती है। इसके बाद असर कम हो जाएगा। गुरुवार को भोपाल शहर में 3.3 मिमी बारिश हुई। गुना में भी पानी गिरा।
राजस्थान में कमजोर होकर पहुंचेगा तूफान
सीनियर मौसम वैज्ञानिक एचएस पांडे ने बताया कि बिपरजॉय तूफान 16 जून तक राजस्थान पहुंच जाएगा, लेकिन यह कमजोर होकर पहुंचेगा या फिर दबाव कम रहेगा। राजस्थान में तूफान और वेस्टर्न डिस्टर्बेंस (पश्चिमी विक्षोभ) की वजह से 16 और 17 जून को बारिश होगी, लेकिन 18 और 19 जून को तेज बारिश होने का अनुमान है, इसलिए मध्यप्रदेश के ग्वालियर-चंबल में भी 18-19 जून को बारिश हो सकती है। तूफान की वजह से तेज हवा भी चल सकती है।

अभी प्री-मानूसन की एक्टिविटी
मौसम वैज्ञानिक यादव ने बताया कि प्रदेश में अभी प्री-मानसून की एक्टिविटी जारी रहेगी। कुछ ही इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है, लेकिन ज्यादातर हिस्सों में दिन-रात के तापमान में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। टीकमगढ़, छिंदवाड़ा, उमरिया में रातें गर्म रहेंगी। वहीं, ज्यादातर शहरों में दिन का तापमान 40 डिग्री या इससे ज्यादा ही रहेगा। अगले दो दिन यानी 16 और 17 जून को ऐसा ही मौसम रहेगा।

अभी दिन-रात गर्मी पड़ने की यह वजह
मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो तूफान ‘बिपरजॉय’ ने प्रदेश से सारी नमी खींच ली है। जहां बारिश हो रही है, वहां लोकल सिस्टम बन रहा है। राजस्थान में गर्म हवा चलने की वजह से भी गर्मी का असर रहा है। इस कारण मध्यप्रदेश में भी गर्म हवाएं आई हैं। राजस्थान में तूफान पहुंचेगा तो वहां बारिश होगी। इसका असर मध्यप्रदेश में भी देखने को मिलेगा।

You may have missed