April 19, 2024

पहली बार प्रदेश से बाहर भेजा जाएगा हाथ, 52 वर्षीय महिला की ब्रेन डेथ के बाद अंगदान

इंदौर। इंदौर में सोमवार सुबह एक बार फिर ग्रीन कारिडोर बना। 52 वर्षीय विनीता खजांची की ब्रेन डेथ के बाद उनके परिजनों ने उनके अंगदान का निर्णय लिया। रविवार दोपहर करीब डेढ़ बजे उपचाररत मरीज को पहली बार और फिर रात करीब साढ़े आठ बजे बाद दूसरी बार ब्रेन डेथ घोषित किया गया।
मुस्कान ग्रुप के जीतू बागानी और उनकी टीम महिला के परिजनों के सतत संपर्क में रही और उन्हें ब्रेन डेथ घोषित हो चुके मरीज के अंगदान के लिए तैयार किया। खजांची का एक हाथ मुंबई के ग्लोबल अस्पताल में भर्ती किशोरी को लगाया जाएगा।

किडनी, लीवर, फेफड़े और एक हाथ होंगे ट्रांसप्लांट

रतलाम कोठी निवासी विनीता पति सुनील खजांची को 13 जनवरी को ब्रेन हेमरेज के बाद बाम्बे अस्पताल में भर्ती किया गया था। रविवार दोपहर डाक्टरों ने पहली बार उन्हें ब्रेन डेथ घोषित किया। बागानी ने बताया कि महिला की एक किडनी सीएचएल अस्पताल, दूसरी किडनी बाम्बे अस्पताल, लीवर चोइथराम अस्पताल, फेफड़े हैदराबाद के एक अस्पताल और एक हाथ मुंबई में भर्ती मरीजों के लिए भेजा जाएगा। ये सभी ग्रीन कारिडोर आज सुबह बना।