April 18, 2024

हत्या के दो आरोपियों गौस मोहम्मद और रियाज जब्बार गिरफ्तार
ब्रह्मास्त्र उदयपुर
उदयपुर में दर्जी की तालिबानी तरीके से हत्या के बाद पूरे शहर में पुलिस तैनात कर दी गई है। 7 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू है। राजस्थान में ऐहतियातन 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया है। एक महीने के लिए धारा 144 लागू की गई है। धारा 144 लागू होने के बावजूद भाजपा ने बंद बुलाया है। मृतक कन्हैयालाल साहू का पोस्टमॉर्टम हो चुका है। अंतिम संस्कार से पहले उनका पार्थिव शरीर घर ले जाया गया है। हत्या के दो आरोपियों गौस मोहम्मद और रियाज जब्बार को अरेस्ट कर लिया गया है। एनआईए और एसआईटी इनसे पूछताछ के लिए उदयपुर पहुंच चुकी है। पूछताछ के बाद एनआईए जांच अपने हाथ में ले सकती है। इधर, कन्हैयालाल के अंतिम संस्कार को लेकर उनके परिवार और पुलिस के बीच विवाद हो गया। पुलिस ने कहा कि घर के पास ही अंतिम संस्कार कर दिया जाए।
सीएम ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई : सीएम अशोक गहलोत भी तीन दिन के जोधपुर दौरे को बीच में छोड़ जयपुर के लिए रवाना हो गए हैं। जयपुर पहुंचने के बाद सीएम ने हाई लेवल बैठक बुलाई है। इसमें प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर रिव्यू करेंगे। बैठक में सीएस, डीजीप, होम और पुलिस डिपार्टमेंट के सभी अधिकारी मौजूद रहेंगे।

राजसमंद से गिरफ्तार किए गए आरोपी
कन्हैयालाल की हत्या के बाद आरोपी मोहम्मद रियाज और मोहम्मद गौस अपनी बाइक से भागने के लिए निकले थे। मगर इसी दौरान डीएसटी की टीम ने राजसमंद पुलिस की मदद से भीम इलाके से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। डीएसटी टीम के प्रह्लाद सिंह को मिली टिप के आधार पर डीएसटी टीम ने समय रहते दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

उदयपुर में टारगेट पर 2 और नूपुर समर्थक

कट्टरपंथियों के टारगेट पर सिर्फ कन्हैयालाल नहीं था, बल्कि दो और लोगों को धमकी दी गई है। इसमें से एक का जिक्र आरोपी मोहम्मद रियाज अत्तारी ने अपने 17 जून को बनाए गए वीडियो में किया है। कन्हैयालाल की मौत के बाद अब इनकी सुरक्षा को लेकर भी चिंता बढ़ गई है। बड़ा सवाल यह भी उठता है कि कन्हैया की सुरक्षा में कोताही कर चुकी पुलिस बाकी दो लोगों को सुरक्षा के लिए क्या कदम उठाएगी?

आरोपियों का पाकिस्तानी कनेक्शन
नूपूर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट की वजह से राजस्थान के उदयपुर में एक टेलर कन्हैयालाल की बर्बरता से हत्या कर दी गई। गला रेतकर की गई नृशंस हत्या की जांच में अब तक जो खुलासे हुए हैं वे बेहद चौंकाने वाले हैं। हत्याकांड का पाकिस्तान से भी लिंक सामने आया है। घटना को अंजाम देने वाले दो आरोपियों का कनेक्शन काराची बेस्ड सुन्नी इस्लामिक संगठन दावत-ए-इस्लामी से सामने आया है। इसका पाकिस्तान के कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक से भी है। जांच से जुड़े लोगों ने यह जानकारी दी है।