April 18, 2024

जैसे- जैसे समय बढ़ रहा ,वैसे वैसे धड़कने हो रही तेज

ब्रह्मास्त्र उज्जैन। पुण्य सलिला मां शिप्रा के तट पर 13 लाख दीपक सजधज कर तैयार है। प्रज्वलित होने के लिए बस अब कुछ ही घंटों की बात है, जब दीप जल उठेंगे और ड्रोन कैमरे से उनकी गिनती होगी। इसके साथ ही विश्वप्रसिद्ध महाकाल की नगरी में विश्व रिकॉर्ड बन जाएगा। फिलहाल विश्व रिकॉर्ड बनने के लिए बेताब है। उज्जैन वासियों, प्रशासन और सरकार से जुड़ी हर मशीनरी की धड़कनें तेज हो गई हैं। जैसे – जैसे समय आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे लोग उस क्षण को निहारने के लिए उत्सुक हो रहे हैं। जब यह घोषित होगा कि उज्जैन ने विश्व रिकॉर्ड बना लिया। गौरतलब है कि उज्जैन के 4 घाटों पर 13 लाख दीपों की श्रंखला सजा दी गई है। शाम को दीप प्रज्वलित होंगे। रात 8 बजे के बाद आम श्रद्धालु इन दीपों को निहार सकेंगे। इसके पहले घाटों पर आम लोगों का जाना प्रतिबंधित कर दिया गया है। महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर भोर होते ही बम – बम भोले , जय शिव शंकर के नारे गूंजने लगे ,लेकिन शाम को तो यह नजारा देखने और सुनने लायक होगा।

सायरन की आवाज के साथ 10 मिनट में जलाने होंगे 12 लाख दीये

कार्यक्रम आज शाम 7 बजे प्रारंभ होगा। रामघाट पर सायरन बजने के साथ ही 12 लाख दीपक जलाने के लिए 10 मिनट का समय मिलेगा। दीपक जलने के बाद सबको पीछे हटना होगा। दूसरे सायरन की आवाज पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम इसे अपने कैमरे में कैद करेगी। सभी वॉलंटियर्स 7.30 बजे फ्री हो जाएंगे। घाटों पर एक साथ 6000 ब्लॉक के 120 सेक्टर में करीब 14 लाख दीपों को रखा जाएगा। दीपोत्सव में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी यहां दीये जलाएंगे।