April 15, 2024

रूस और यूक्रेन के बिच जारी विवाद के बीच जंग छिड़से हालात हुए खराब

बंकर में रह रहे, रात में बिजली नहीं और इंटरनेट पर भी आफत, यूक्रेन में भारतीय छात्रों की कहानी, पीएम, सीएम से परिजन लगा रहे गुहार
ब्रह्मास्त्र उज्जैन। रूस और यूक्रेन के बिच जारी विवाद के बिच जंग छिड़ जाने से उज्जैन के करीब 11 छात्र मेडिकल की पढ़ाई कर रहे वहां फंस गए है। अब यूक्रेन के अलग अलग शहरों में फंसे छात्रों को डर सता रहा है की दोनों देशों के बिच जंग का खामियाजा उन्हें ना भुगतना पड़े। इधर उज्जैन में इन सभी छात्रों के परिजन बेहद चिंतित है और पीएम मोदी सहित सीएम शिवराज सिंह से अपने बच्चो को लाने के लिए गुहार लगा रहे है।
उज्जैन के शिवाजी पार्क कालोनी में रहने वाले मुकेश त्रिवेदी सपना त्रिवेदी की बेटी मेघा यूक्रेन के टरनोपिल की नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस कर रही है। 10 फरवरी को ही यूक्रेन पहुंची लेकिन वहां पहुंचते ही जंग के बादल मंडराने लगे। वहां से निकलने की सोच ही रही थी की दोनों देशों के बिच जंग छिड़ गयी और अब मेघा अपने हॉस्टल में फंसी हुई है। मेघा ने आॅनलाइन चैट में बताया की यहां हालत सामान्य नहीं है शहर में सन्नाटा पसरा है,सभी लोग जरूरी सामान को घर में एकत्रित कर रहे है, अब कुछ रुसी टेंक भी शहर में दिखने लगे है काफी भयावह माहौल के बिच दिन में चार चार बार सायरन बज रहे है। सभी को घर में रहने की सलाह दी गयी है। मेघा ने बताया की उज्जैन से करीब 15 छात्र है और एमपी से करीब 100 से अधिक होंगे जो अलग अलग यूनिवर्सिटी में है। मेघा ने पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम शिवराज सिंह से गुहार लगाते हुए प्रार्थना की है की जल्द से जल्द यूक्रेन से निकाला जाए।
पोलेंड के रास्ते निकालने की बात सामने आयी
मेघा के अनुसार यूनिवर्सिटी के डीन ने कहा है संभवत: भारतीय को पोलेंड के रास्ते निकाला जा सकता है। इसका फैसला एक दो दिन में होगा। एम्बेसी को भी मेल किया है लेकिन अब तक कोई जवाब नहीं आया है। मेघा के पिता मुकेश त्रिवेदी ने बताया की जंग के खबर के बिच काफी चिंता सता रही है की बेटी को किस तरह से भारत आएगी। सीएम ,लोक सभा अध्यक्ष ,इंडियन एम्बेसी सहित अन्य जगहों पर बच्चो को निकालने के लिए अनुरोध किया है।
मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर दर्ज हुई सूचना
मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर 46 विद्याथीर्यों की सूचना दर्ज हुई है। इसमें भोपाल के 9, इंदौर के 3, धार 4, उज्जैन 4, देवास 4, राइसेन 3, सिहोर 2, बड़वानी 2, तथा जबलपुर, छिन्दवाड़ा, मुरेना, नर्मदापुरम. डिंडोरि, ग्वालियर, टीकमगढ़, छतरपुर, खरगोन, झाबुआ, बड़वानी, सागर, बालाघाट, रतलाम, बुरहानपुर प्रत्येक से 1-1 (कुल 46) सूचनाएँ दर्ज हुई हैं। समस्त सम्बन्धित यूक्रेन में वर्तमान में सुरक्षित हैं। उन्हें यूक्रेन में भारतीय दूतावास से सम्पर्क में रहने के लिए कहा गया है।
अनुष्का ने बताएं वहां के हालात
उज्जैन की रहने वाली अनुष्का यादव ने अपने पिता संजय यादव को वीडियो कॉल कर वहां के हालात बताए हैं। अनुष्का 10 फरवरी को ही यूक्रेन पहुंची थीं। वह यूक्रेन के कीव में 2017 से ेुु२ की पढ़ाई कर रही हैं। उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश की 200 से ज्यादा छात्र-छात्रएं यहां पढ़ाई कर रही हैं। इसमे उज्जैन के करीब 20 बच्चे हैं। अनुष्का ने कहा कि यहां के हालात ठीक नहीं हैं। अनुष्का ने कहा कि सरकारी हवाई सेवाएं निरस्त कर दी गई हैं। टिकट के दाम बढ़ रहे थे जिसके कारण 11 मार्च तक कि हवाई सेवाएं बुक हो चुकी थीं लेकिन रूस के हमले के बाद से सभी हवाई सेवाओं को निरस्त कर दिया गया। आगे जानकारी देते हुए अनुष्का ने बताया कि हमें यहां नोटिस मिल चुका है कि रात से लाइट नही रहेगी, गैस सप्लाय बन्द हो चुका है, इंटरनेट सेवाएं भी बंद होने वाली हैं, 2 घंटे लाइन में लगकर खाने पीने का सामान खरीदना पड़ रहा है।