पैरोल पर गया बंदी कृपालसिंह नहीं लौटा जेल

उज्जैन। शाजापुर के मोहन बडोदिया देहरीपाल में रहने वाले कृपालसिंह पिता मांगीलाल को न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाने के बाद भैरवगढ़ जेल भेज दिया था। आजीवन कारावास की सजा काट रहे कृपाल ने जेल प्रशासन से 15 दिन का पैरोल मांगा। जेल प्रशासन ने 15 मई को उसकी पैरोल को मान्य कर लिया और 1 जून तक के लिये उसे रिहा किया। उसे पैरोल नियम के मुताबिक वापस लौटना था, लेकिन 2 जून तक वापस नहीं आने और कोई संपर्क नहीं होने पर उसकी जमानत देने वाले मेहरबान पिता पर्वतसिंह सौंधिया के साथ फरार बंदी के खिलाफ जेल प्रहरी संदीप पिता भगतसिंह ने भैरवगढ़ थाने पहुंचकर 31 डी बंदी अधिनियम 109 भादवि में प्रकरण दर्ज कराया।

You may have missed