मिर्ची में मिलाया जा रहा था लाल रंग, सुरक्षा प्रशासन टीम ने लिया सैंपल – बिना अनुमति संचालित होने पर कारखाना किया गया सील

दैनिक अवंतिका(उज्जैन) लाल मिर्च पाउडर में लाल रंग मिलाकर लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जा रहा था। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन टीम को शिकायत मिली तो रविवार सुबह पिंगलेश्वर स्थित कारखाने पर जांच के लिए पहुंची। मैजिक बॉक्स से जांच की गई जिसमें मिलावट होना सामने आया। कारखाना सील कर सैंपल जांच के लिए भोपाल प्रयोगशाला भेजा  गया है।खाद्य सुरक्षा प्रशासन अधिकारी बसंत दत्त शर्मा ने बताया कि कलेक्टर नीरज कुमार सिंह के निर्देश पर खाद्य पदार्थों की जांच का अभियान एक सप्ताह से चलाया जा रहा है। इस दौरान जानकारी मिली थी कि पिंगलेश्वर स्थित मिर्ची कारखाने में मिर्च पाउडर में रंग मिलाया जा रहा है।सुरक्षा प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और मैजिक बॉक्स से मिर्ची पाउडर की जांच की। जिसमें मिलावट होना सामने आई। जांच के दौरान कारखाने से लाल रंग मिलाये जाने के पैकेट भी बरामद किए गए। सैंपल लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा गया है। सुरक्षा प्रशासन की टीम ने कारखाना संचालक मोहित आहूजा से बिना नाम का कारखाना संचालित किए जाने के दस्तावेज मांगे। इस दौरान सामने आया कि कारखाना बिना अनुमति के काफी समय से संचालित किया जा रहा है। दस्तावेज नहीं होने पर कारखाना सील कर दिया गया। सुरक्षा प्रशासन अधिकारी विष्णु दत्त शर्मा के अनुसार कारखाने से 25 क्विंटल लाल मिर्च के साथ कुछ क्विंटल मिर्च पाउडर भी बरामद किया गया है। प्रयोगशाला भेजे गए सैंपल की रिपोर्ट आते ही कारखाना संचालक के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। विदित हो कि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की टीम ने 8 दिन पहले खाद्य पदार्थों की जांच और सैंपलिंग का अभियान शुरू किया था। इस दौरान महिदपुर में दूध से बने खाद्य पदार्थों की जांच की गई थी। उसे वक्त एक प्रतिष्ठान बिना अनुमति के संचालित होना पाया गया था जिस टीम द्वारा सील किए जाने की कार्रवाई की गई थी। यही नहीं सुरक्षा प्रशासन की टीम ने इंदौर रोड बाईपास पर अलसुबह दूध वाहनों को रोक कर सैंपल भरे थे। ग्रामीण क्षेत्रों में पनीर मावे की सैंपलिंग भी की जा चुकी है। वही महाकाल मंदिर के आसपास संचालित होने वाले भोजनालय पर पहुंचकर भी सुरक्षा प्रशासन की टीम ने हल्दी मिर्ची के सैंपल लिए थे और भोजनालय की साफ सफाई व्यवस्था को लेकर निर्देश जारी किए थे।

You may have missed