कोर्ट से जमानत लेने की फिराक में थे, देसाई नगर से पकड़ाए -मामला मारपीट में घायल वृद्ध की मौत का

दैनिक अवंतिका(उज्जैन) बापूनगर में उधार रूपयों को लेकर हुई वृद्ध के साथ मारपीट और उपचार के दौरान हुई मौत के मामले में धारा 302 का प्रकरण दर्ज होने के बाद फरार मां और पुत्र कोर्ट से जमानत लेने की फिराक में घूम रहे थे। मंगलवार को पुलिस ने देसाईनगर क्षेत्र से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया है। रेलवे स्टेशन के सामने चाय की केंटिग चलाने वाला रमेश पिता गब्बूलाल जयसवाल 60 वर्ष बम्मनवाड़ा निजातपुरा का रहने वाला था। उसने 6 माह पहले बापूनगर में रहने वाली मांगूबाई को 10 हजार रूपये उधार दिये थे। 28 नवबंर को वह मांगूबाई से रूपये वापस लेने के लिये बापूनगर पहुंचा था। जहां मांगूबाई और उसके पुत्र शांतिलाल ने पीट-पीटकर घायल कर दिया था। चिमनगंज थाना पुलिस ने मारपीट का प्रकरण दर्ज किया गया था। परिजनों ने रमेश के घायल होने पर आरडी गार्डी में भर्ती किया था। जहां 2 दिन बाद उसकी मौत हो गई थी। मांगूबाई और शांतिलाल फरार हो गये थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर रमेश की मौत मारपीट से आंते फटने और सिर में गंभीर चोंट लगने से मौत होना सामने आने पर धारा 302 बढ़ाई थी। हत्या में मां और पुत्र की तलाश जारी थी। सोमवार को सूचना मिली कि दोनों जमानत के लिये कोर्ट के चक्कर लगा रहे है। पुलिस पहुंची लेकिन दोनों नहीं मिल पाये थे। मंगलवार सुबह सामने आया कि दोनों देसाईनगर में दिखाई दिये है। पुलिस तत्काल पहुंची और तलाश कर मांगूबाई के साथ पुत्र शांतिलाल को हिरासत में लिया गया। थाने लाने पर शांतिलाल का कहना था कि रमेश मां का पीछा करता था, इसलिये मारपीट की थी। एसआई संजय मंडलोई ने बताया कि मामला उधार रूपयों को लेकर होना सामने आये थे। मां और पुत्र को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया है। जहां से जेल भेजने के आदेश जारी हुए थे।

Author: Dainik Awantika