April 16, 2024

 

इंदौर। पाकिस्तान के मुल्तान से हरिद्वार अपने पुरखों के अस्थि विसर्जन के लिए आए दो हिंदू परिवारों के 22 सदस्यों को भारत में रहने की अनुमति मिली है। इन सभी शरणार्थियों को धार जिले के मुल्थान में रहने की जगह दी गई है, जहां वर्षों पहले से आए हुए पाकिस्तानी हिंदू बसे हैं। यह सभी पाकिस्तान के थर नाम की जगह से ताल्लुक रखते हैं।
यह 22 शरणार्थियों का दल हरिद्वार के अस्थायी वीजा पर भारत आया था। यह अपने परिचितों के पास मुल्थान पहुंचे। उन्होंने इंदौर सांसद शंकर लालवानी से संपर्क किया और पाकिस्तान में प्रताड़ना का जिक्र करते हुए भारत में रहने की इच्छा जताई।
सांसद ने गृह मंत्रालय से चर्चा की और हिंदू शरणार्थियों को भारत में रहने के लिए अनुमति दिलाने में सहयोग किया। सांसद लालवानी ने बताया कि सभी को अस्थायी तौर पर फिलहाल भारत में रहने की इजाजत मिली है। अब ये लांग टर्म वीजा के लिए आवेदन करेंगे, जिसके बाद भारत में रह सकेंगे।
सांसद ने भरोसा दिलाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार में सीएए जैसा कानून पास हुआ है और भारत दुनिया भर में रहने वाले हिंदुओं का स्वाभाविक तौर पर घर है। उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है। पाकिस्तान से आए दल ने भी सांसद का साफा पहनाकर स्वागत किया और आभार जताया।
सांसद ने बताया कि पाकिस्तान में हिंदुओं के हालात मैं जब भी सुनता हूं, द्रवित हो जाता हूं और इस दल की कहानी भी वैसी ही है। वहां पर हिंदू असुरक्षित हैं। हिंदुओं पर कई तरह के अत्याचार हो रहे हैं।