April 16, 2024

उज्जैन। गुरु पुष्य, सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि, आडल, विडाल और ध्रुव योग में आषाढ़ की गुप्त नवरात्रि। गुरुवार से शुरू हुई। पहले दिन शक्तिपीठ हरसिद्धि मंदिर में भक्तों की भीड़ रही। नवरात्रि साल में चार बार आती है। जिसमें से दो मुख्य नवरात्रि और दो गुप्त नवरात्रि होती है। माघ व आषाढ़ मास में मनाई जाने वाली नवरात्रि को गुप्त कहते हैं जबकि अश्विन व चैत्र महीने में प्रमुख नवरात्रि मनाई जाती हैं। इस नवरात्रि भी श्रद्धालु नौ दिन मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना करेंगे। उज्जैन के शक्ति पीठ प्रसिद्ध हरसिद्धि मंदिर में सुबह से दर्शन, पूजन के लिए भक्तों का तांता लग गया। शहर के अन्य प्राचीन देवी मंदिरों में भी गुप्त नवरात्रि के पहले दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे। मां चामुंडा के दरबार, नगरकोट की रानी व गढ़कालिका मंदिर में भक्तों की कतार लगी रही। कई लोग नवरात्रि में गुप्त पूजा पाठ व अनुष्ठान करा रहे हैं।