April 18, 2024

नरेश जीनिंग की खाली कराई गई जमीन पर बनेगा मेडिकल कॉलेज

उज्जैन। मध्यप्रदेश शासन की केबिनेट में मंगलवार को उज्जैन में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की मंजूरी मिल चुकी है। आगर रोड पर नरेश जीनिंग फैक्ट्री की जमीन पर मेडिकल कॉलेज का भवन बनाए जाने की तैयारी है। जिला अस्पताल को इससे अटैच किया जाएगा। मध्यप्रदेश में उज्जैन एकमात्र ऐसा संभाग होगा जहां 4 सरकारी मेडिकल कॉलेज होंगे। रतलाम में मेडिकल कॉलेज शुरू हो चुका है। मंदसौर और नीमच में भी स्वीकृति मिल चुकी है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई केबिनेट बैठक में उज्जैन और बुधनी में मेडिकल कॉलेज खोलने के प्रस्ताव की प्रशासकीय स्वीकृति दी है। मेडिकल कॉलेज के लिए शुरूआती बजट 260 करोड रुपए तय किया गया है। सांसद अनिल फिरोजिया के मुताबिक उज्जैन में प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज पूरी तरह से सरकारी होगा। इसे आगर रोड पर नरेश जीनिंग फैक्ट्री की रिक्त कराई गई जमीन पर बनाया जाएगा। सांसद फिरोजिया ने कहा कि कोविड काल में जब उज्जैन में मृत्युदर 30 प्रतिशत तक पहुंच गई थी, तब सर्वसुविधा युक्त मेडिकल कॉलेज खोलने की जरूरत सबसे ज्यादा महसूस की गई थी। उसी दौर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की थी।
हालांकि नरेश जीनिंग की जमीन अब भी विवाद में है। नरेश जीनिंग फैक्ट्री की जमीन को रियासतकाल में 1910 में ताकायमी कारखाना संचालित करने के लिए आवंटित किया गया था। हाइकोर्ट के निर्देश पर नरेश जीनिंग की जमीन से संबंधित मामले में अब भी अपर आयुक्त न्यायालय में सुनवाई चल रही है। 11 जनवरी 2021 को प्रशासन द्वारा यहां कब्जा लिया जा चुका है।