सरकारी नौकरी छोड़ मां का सपना पूरा करने महापौर का चुनाव लड़ रहा बेटा

इंदौर। सब इंजीनियर 33 साल के महेंद्र मकासरे ने सरकारी नौकरी से इस्तीफा देकर नगर निगम चुनाव में निर्दलीय महापौर पद के लिए नामांकन दर्ज कराया है। मकासरे का नामांकन फॉर्म अप्रूव हो गया है और उन्हें चुनाव चिन्ह भी आवंटित हो जाएगा। इंदौर के जोन 14 में आने वाले वार्ड 85 में रहने वाले महेंद्र मकासरे ने बताया कि मेरे पिता मजदूरी करते थे और मां कभी घर-घर बर्तन मांजने का काम करती थीं। मां की इच्छा थी कि मैं खूब पढ़ाई करूं और इंजीनियर बनूं। घर में आर्थिक समस्या के चलते मैंने पिता के साथ मजदूरी की, सब्जी बेचने का काम भी किया, क्योंकि मैं अपनी मां के सपने को पूरा करना चाहता था। अब मेरी मां चाहती हैं कि इंदौर शहर का मेयर बनूं और जनता की सेवा करूं। मैं अपनी मां के हर सपने को पूरा करना चाहता हूं और इसीलिए सरकारी नौकरी छोड़कर मेयर पद के लिए चुनावी मैदान में उतरा हूं।

शिक्षा विभाग में सब इंजीनियर की नौकरी छोड़ी

मकासरे ने बताया कि इंजीनियरिंग करने के बाद 2009 में शिक्षा विभाग में सब इंजीनियर की नौकरी जॉइन की थी, लेकिन अब इस्तीफा देकर महापौर पद के लिए निर्दलीय नामांकन भरा है। मकासरे आगे बताते हैं कि मां की इच्छा थी कि मैं इंजीनियर बनूं तो मैंने वैष्णव पॉलिटेक्निक से इंजीनियरिंग की। अब मां चाहती है कि मैं जनता की सेवा करूं, इसलिए चुनाव लड़ रहा हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.