परमबीर की प्रॉपर्टी लिस्ट: 11 करोड़ की 5 प्रॉपर्टीज के मालिक हैं परमबीर सिंह

ब्रह्मास्त्र मुंबई। कभी मुंबई पुलिस के सबसे पॉवरफुल पुलिस आॅफिसर रहे परमबीर सिंह अब भगोड़ा घोषित हो चुके हैं। एक गृहमंत्री पर 100 करोड़ की वसूली का टारगेट का आरोप लगाकर सनसनी फैलाने वाले परमबीर अब अपने आरोपों के पक्ष में कोई सबूत नहीं पेश कर पा रहे हैं। अदालत के भगोड़ा घोषित करने के फैसले के 30 दिन बाद उनकी देशभर में मौजूद प्रॉपर्टीज को कुर्क करके का काम शुरू होगा। इस बीच हमारे हाथ परमबीर की प्रॉपर्टी की पूरी लिस्ट लगी है। इसे देख सवाल उठता है कि महीने में 2.25 लाख कमाने वाले एक शख्स ने कैसे इतनी बड़ी प्रॉपर्टी जमा कर ली थी? वर्तमान में परमबीर सिंह के खिलाफ रंगदारी के पांच मामले दर्ज हैं, जिसके संबंध में तीन गैर जमानती वारंट जारी किए जा चुके हैं। पेश होते ही उन्हें तुरंत सलाखों के पीछे जाना होगा।
परमबीर के नाम से जुड़ा विवाद
अप्रैल में सोनू जालान और दो अन्य लोगों ने महाराष्ट्र के सीएम को पत्र लिखकर मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा चलाए जा रहे जबरन वसूली रैकेट का आरोप लगाया था। अपने आरोप का समर्थन करने के लिए उन्होंने सुनवाई के दौरान आॅडियो टेप, सीडीआर और अन्य डॉक्यूमेंट सहित महत्वपूर्ण सबूत आॅन-रिकॉर्ड रखे।
मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में दर्ज हुआ पहला केस
मुंबई पुलिस ने 22 जुलाई को मुंबई के पूर्व सीपी परमबीर सिंह, डीसीपी अकबर पठान, दो नागरिकों और 4 पुलिस निरीक्षकों और जूनियर स्तर के पुलिस कर्मियों के खिलाफ रंगदारी का मामला दर्ज किया था। मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में आईपीसी की कई धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई और दो नागरिकों को गिरफ्तार किया गया।
जुलाई में दर्ज हुआ था पहला केस
23 जुलाई को मुंबई के पूर्व शीर्ष पुलिस अधिकारी परमबीर सिंह के खिलाफ एक और जबरन वसूली का मामला दर्ज किया गया था। उन पांच अन्य लोगों में संजय पुनमिया, सुनील जैन, मनोज घोटकर, डीसीपी अपराध शाखा पराग मानेरे शामिल थे, जिनपर पुलिस ठाणे द्वारा विभिन्न आईपीसी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। फिर 30 जुलाई को मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर के खिलाफ एक और प्राथमिकी दर्ज की गई। कथित क्रिकेट सट्टेबाज सोनू जालान और व्यवसायी केतन तन्ना द्वारा दर्ज की गई प्राथमिकी में रवि पुजारी और प्रदीप शर्मा सहित 27 अन्य नाम भी शामिल हैं।
जल्द निलंबित होंगे परमबीर सिंह
महाराष्ट्र सरकार ने रंगदारी के मामलों को ध्यान में रखते हुए परमबीर सिंह को निलंबित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह महाराष्ट्र होमगार्ड के महानिदेशक के कार्यालय में नियुक्त होने के बाद पिछले छह महीनों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने नहीं आए हैं।

 

You may have missed