लखनऊ में अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया, भीड़ ने पुलिस की गाड़ी फूंकी

विपक्ष के कई नेता हाउस अरेस्ट, बसपा महासचिव सतीश मिश्र, कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, सलमान खुर्शीद, आराधना मिश्रा और शिवपाल यादव शामिल हैं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस सुबह ही हिरासत में ले चुकी
ब्रह्मास्त्र लखनऊ/लखीमपुर। लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा का असर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नजर आने लगा है। यहां लखीमपुर जाने से रोकने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव सड़क पर ही धरने पर बैठ गए। अखिलेश ने कहा कि किसानों पर अंग्रेजों के शासन से भी ज्यादा जुल्म भाजपा सरकार कर रही है। उन्होंने केंद्रीय गृहराज्य मंत्री के इस्तीफे और किसानों को 2-2 करोड़ का आर्थिक सहायता देने की भी मांग की। इसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इधर, अखिलेश के धरने से कुछ दूरी पर भीड़ ने पुलिस की एक जीप को आग के हवाले कर दिया है। पुलिस ने विपक्ष के कई नेताओं को लखीमपुर खीरी पहुंचने से रोकने के लिए उन्हें हाउस अरेस्ट कर लिया है। इनमें बसपा महासचिव सतीश मिश्र, कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, सलमान खुर्शीद, आराधना मिश्रा और शिवपाल यादव शामिल हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस सुबह ही हिरासत में ले चुकी है।

टिकैत बोले- मंत्री की बर्खास्तगी तक शवों का अंतिम संस्कार नहीं
इधर, लखीमपुर पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने ऐलान किया है कि जब तक मंत्री अजय मिश्र को बर्खास्त नहीं किया जाता है। उनके बेटे की गिरफ्तारी नहीं होती है। मृतक किसानों के शवों का अंतिम संस्कार नहीं होगा। इधर, घटनास्थल पर किसान जुटने लगे हैं। यहां किसानों की संख्या दो हजार हो गई है। इसे देखते हुए प्रशासन ने दंगा नियंत्रण की 3 गाड़ियां मंगाई है। रविवार को हुई हिंसा में घायल एक पत्रकार की मौत हो गई। साधना न्यूज चैनल के तहसील रिपोर्टर रमन कश्यप (35 वर्ष) की मौत की खाबर आ रही है। उनके पिता रामदुलारे ने पोस्टमॉर्टम हाउस पहुंचकर उनके शव की पहचान की है। आपको बता दें कि इस हिंसा में चार किसानों की जान चली गई, जिसके बाद तनाव की स्थिति बनी हुई है। लखीमपुर हिंसा केस में केंद्रीय गृह राज्?य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाप मामला दर्ज किया गया है। वहीं, किसानों ने आरोपी की गिरफ्तारी होने तक शवों का अंतिम संस्?कार नहीं करने का ऐलान कर दिया है। इस मामले में मंत्री के बेटे सहित14 लोगों के खिलाफ हत्?या, आपराधिक साजिश सहित कई धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है। उधर, रविवार रात को मंत्री अजय मिश्र ने कहा था कि घटनास्थल पर उनका बेटा मौजूद ही नहीं था। प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच घुसे कुछ शरारती तत्वों ने बीजेपी के 3 कार्यकर्ताओं और उनके काफिले की एक गाड़ी के ड्राइवर को पीट-पीटकर मार डाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *