आईएस से जुड़े भारतीय मूल के 25 आतंकी, अफगानिस्तान से कर सकते हैं वापसी

हवाई अड्डे और बंदरगाह अलर्ट पर
ब्रह्मास्त्र नई दिल्ली। भारत के हवाई अड्डों और बंदरगाहों को अलर्ट पर रखा गया है। अफगानिस्तान जाकर इस्लामिक स्टेट से जुड़े 25 भारतीयों की एंट्री को लेकर यह रोक जारी किया गया है। एनआईए की ओर से दिल्ली, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में की गई जांच के बाद 25 लोगों के अफगानिस्तान में खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से जुड़े होने की बात सामने आई है।
भारत में हिंदू नेताओं पर हमले कर सकता है आईएसआईएस-खुरासान
अफगानिस्तान में तालिबानी हुकूमत के बीच भारत में भी आतंकी हमले का खतरा बना हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाले आतंकी संगठन करकर का खुरासान ग्रुप (करकर-ङ) भारत में हमले की साजिश रच रहा है। करकर-ङ भारत में हिंदू नेताओं और मंदिरों को निशाना बना सकता है। बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान और पाकिस्तान में बैठे आतंकी करकर के संपर्क में हैं। कश्मीर और कर्नाटक से पकड़े गए कुछ संदिग्धों ने ये खुलासा किया है। इसके बाद खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है।
पंजशीर में जंग के बीच तालिबान ने नया गवर्नर नियुक्त किया
अफगानिस्तान के पंजशीर पर भले ही तालिबान का कब्जा नहीं हो, लेकिन उसने अपनी तरफ से पंजशीर का नया गवर्नर नियुक्त कर दिया है। अफगानी मीडिया 1ळश्ठी६२अऋ ने यह जानकारी दी है। वहीं तालिबान की तरफ से पंजशीर के लड़ाकों (नॉर्दन अलायंस) से बातचीत कर रहे तालिबान के इनविटेशन एंड गाइडेंस कमीशन के प्रमुख आमिर खान मुताकी ने कहा है कि पंजशीर को लेकर वार्ता विफल हो चुकी है। साथ ही कहा है कि जो सरेंडर करना चाहें वो सरेंडर कर सकते हैं और जो लड़ना चाहते हैं उन्हें जवाब दिया जाएगा, हम पंजशीर पर हमला कर चुके हैं।पंजशीर में तालिबान के खिलाफ जंग लड़ रही रेजिस्टेंट फोर्स ने कहा है कि ये लड़ाई जारी रहेगी, क्योंकि तालिबान से वार्ता में कोई नतीजा नहीं निकल पाया है। बता दें पूरे अफगानिस्तान में पंजशीर ही ऐसा इलाका है जहां तालिबान कब्जा नहीं कर पाया है। यहां पंजशीर के शेर के नाम से मशहूर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद और अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह तालिबान के खिलाफ जंग की अगुआई कर रहे हैं।

=

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *