भारी बारिश से उज्जैन के घाट डूबे, मंदिरों में भराया पानी

इंदौर में भी निचली बस्तियों में जनजीवन अस्त- व्यस्त

उज्जैन। मध्य प्रदेश के कई जिलों में पिछले 24 घंटे से हो रही बारिश ने आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। उज्जैन, इंदौर, शाजापुर, सीहोर, आगर मालवा समेत कई जिलों में भारी बारिश से निचले इलाकों में पानी जमा हो गया है। शहरों में भी वर्षा से बुरा हाल है। पिछले 24 घंटे से इंदौर और उज्जैन में हो रही लगातार बारिश से शिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ गया है। रामघाट स्थित कई बड़े-छोटे मंदिर जलमग्न हो गए हैं। रामघाट पर आने वाले श्रद्धालुओं को रोकने के लिए होमगार्ड के सैनिक लगा दिए गए हैं। बढ़ते जलस्तर के कारण शिप्रा नदी पर बना छोटा पुल पानी में डूब गया है। बारिश से शिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ते देख प्रशासन ने सुरक्षित इलाकों की पहचान कर ली है। शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में बने धर्मशाला और स्कूलों को सुरक्षित किया गया है, ताकि निचले इलाकों में रहने वालों को सुरक्षित किया जा सके। शिप्रा नदी के आसपास बने मंदिर पानी में डूब चुके हैं। बीते 20 घंटों से उज्जैन और आसपास के इलाकों में तेज बारिश हो रही है। कभी कभी बारिश कुछ थक जाती है लेकिन ज्यादातर समय में रिमझिम बारिश हो रही है।
उज्जैन वेधशाला के अनुसार 15 घंटों में 2.5 इंच से अधिक बारिश हुई है। इस कारण शहर के कई निचले इलाके जैसे एटलस चौराहा, केडी गेट, तोपखाना आदि स्थानों पर जलभराव हो गया है। बताया गया कि भारी बारिश से जिले के अन्य इलाकों का भी यही हाल है। नागदा तहसील की चंबल नदी उफान पर है। नदी के बीच में बने मां चामुंडा मंदिर के अंदर से पानी बह रहा है।

सीहोर जिले में कई गांवों का संपर्क कटा
सीहोर जिले में पिछले 48 घंटों से जारी बारिश ने सभी नदी नाले और प्राकृतिक जल स्रोत लबालब कर दिए हैं। मूसलाधार वर्षा के कारण श्यामपुर तहसील में पार्वती नदी के मुहाने बसे एक दर्जन गांवों का सड़क सम्पर्क कट गया है। स्थानीय नदी का जलस्तर बढ़ने से सुआखेड़ी, नाईहेड़ी, बदरखा सानी, दौलतपुरा गांवों की स्थिति गंभीर हो चली है।

शाजापुर में कई लोग तेज धार में बह गए

शाजापुर जिले में भी लगातार बारिश हो रही है, जिससे कई इलाके डूब गए हैं। बारिश से नदी-नाले उफान पर हैं, जिसके कारण कई स्थानों से जलजनित हादसे की खबर है। मुहम्मद खेड़ा गांव में आज एक 7 वर्षीय मासूम पानी के तेज बहाव में बह गया। सुन्दरसी क्षेत्र में गिराना गांव में भी 50 वर्षीय व्यक्ति बह गया।

आगर मालवा में डैम के गेट खुले

आगर मालवा जिले में लगातार बारिश के दौर के बीच क्षेत्र के सबसे बड़े कुंडालिया डैम के 11 में से 9 गेट खोल दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *