विंध्य में केंद्र पर बरसे टिकैत:बोले- नौजवान सो रहा है, विपक्ष कमजोर है

रीवा भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत रीवा में कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि नौजवान सो रहा है, इसलिए देश बिक गया। विपक्ष कमजोर था, उसने भी कुछ नहीं किया। वह भी क्या करे, उसे इतना डाउन कर दिया। बोलने नहीं दिया। उसके नेता भाग गए। एक यंग नेता (ज्योतिरादित्य सिंधिया) था, मजबूत था। उसे अपने में शामिल कर लिया। इसलिए विपक्ष चुप बैठ गया। 2021 आंदोलन का साल है। मैं आह्वान करता हूं कि सभी मिलकर आंदोलन करें। किसान पीछे नहीं हटेगा।

रीवा की करहिया मंडी में रविवार को आयोजित किसान महापंचायत में रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, पन्ना आदि जिलों से किसान पहुंचे। मंच पर देशभर के किसान संगठनों के प्रतिनिधि के साथ समाजसेवी मेधा पाटकर भी मौजूद रहीं। 2 घंटे देरी से दोपहर तीन बजे महापंचायत में पहुंचे राकेश टिकैत ने कहा कि रीवा रियासत का संबंध टिकैत खानदान से रहा है।

उन्होंने कहा कि दुनिया में भूख एक व्यापार है। इसके लिए सोने और भूख का उदाहरण दिया। कहा कि महिलाएं सोना एक साल में 17 बार पहनती हैं। तीज त्योहार और शादी समारोह में, जबकि भूख 700 बार लगती है। दिन में दो बार आदमी को भूख लगती है, इसलिए बीजेपी ने भूख का कारोबार शुरू किया। उसने कहा कि पहले जमीन खरीद लो। गोदाम बना लो। फिर अनाज का बिक्री करो। राजस्थान और हरियाणा में पहले बड़े-बड़े गोदाम बन गए। उसके बाद कानून लाया गया। सरकार किसी पार्टी की नहीं है, बल्कि व्यापारियों की है। बीजेपी के बड़े-बड़े नेता नहीं बोल पा रहे। हमें उन्हें आजादी दिलानी होगी।

जब देश बिक रहा था तो काेई नहीं बोला। पहले बीएसएनएल की बोली लगी। कर्मचारियों ने आंदोलन किया, कुछ नहीं हुआ। इसी तरह बैंक और रेलवे के साथ हुआ। ट्रांसफर करके सरकार ने सबको दबा दिया, लेकिन किसान दबने वाला नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *